Thursday, November 3, 2011

बापू के नाम

सुखदायक सिद्ध बापू के नाम का अमृत पी
दुख: से व्याकुल मन तेरा भटके ना कभी
थामे सब का हाथ वो, मत होई ये भयभीत
मोटेरा  वाला परखता संत जनों की प्रीत
बापू की करुणा के खुले शत-शत पावन द्वार
जाने किस विध हो जाये तेरा बेडा पार
जहाँ भरोसा वहाँ भला शंका का क्या काम
तु निश्चय से जपता जा बापू नाम अविराम
ज्योर्तिमय बापू साधना नष्ट करें अंधकार
अंतःकरण से रे मन उसे सदा पुकार
बापू के दर विश्वास से सर झुका नही इक बार
किस मुँह से फिर मांगता क्या तुझको अधिकार
पग – पग काँटे बोई के पुष्प रहा तू ढूंढ
बापू नाम के सादे में ऐसी नही है लूट
मीठा – मीठा सब खाते कर-कर देखो थूक
महालोभी अतिस्वार्थी कितना मूर्ख तू
न्याय शील सिद्ध बापू से जो चाहे सुख भी
उसके बन्दो तू भी न्याय तो करना सीख
परमपिता सत जोत से क्यूं तूं कपट करे
वैभव उससे मांग कर उसे भी श्रद्धा दे
बापू तेरी पारबन्ध के बदले है सत्यालेक
कभी मालिक की ओर तू सेवक बनकर देख
छोड़ कर इत उत छाटना भीतर के पट खोल
निष्ठा से उसे याद कर मत हो डाँवाडोल
बापू को प्रीतम कह प्रीत भी मन से कर
बीना प्रीत के तार हिले मिले ना प्रिय से वर
आनन्द का वो स्त्रोत है करुना का अवतार
घट घट की वो जानता महा योगी सुखकार

Thursday, October 27, 2011

BHAI DOOJ

For Hindus, the story behind each festival play a very important role in the formation of their culture and have a very deep significance and values. Most of the Indian festivals are attached to specific characters and personalities that helps the masses to understand and know the true significance of the festival. Just like all important Indian Festivals, Bahi dooj also has a story to follow that have carved a niche with its unique presence and strength.

Through generations, the story of Bhai Dooj has been passed from generation to generation either by word of mouth or through carefully stored scriptures. The narration of the story marks the end of the Bhai dooj puja. Once the various rituals of Bhai dooj such as the sister applying the teeka on the forehead of the brother, giving him the eatables and in return receiving the gifts are over, the women and children sit around, to hear the story behind Bhai Dooj from the elders of the family.

The story goes that once there was a family living in a village that had only a sister and a brother. The sister was very elder to her brother, thus when she got married, the brother was at a very tender age. The boy did not remembered any thing about his sister's marriage. After the marriage, the sister never returned to her mother's home. As the brother grew up, the image of her sister started fading with each passing years. He terribly missed his sister, especially on the Bhai Dooj day, as he used to see his friends with teeka on their forehead and plates full of sweets.

On one particular Bhai dooj, when the boy had turned up into a handsome young boy, he inquired his mother about the reason as to why his sister never visited her original home after her marriage. The mother replied that she does not come because there is a big forest between this village and the one in which she lives and there is a big river flowing in between. One has to cross the river by boat and then there are wild animals which fill people with so much terror, that many people do not travel through the forest.

Inspite of knowing the immense difficulty he will have to face, the young brother decided to visit his sister on the next Bhai dooj day. The mother reminded him again of the dangers, but he did not listen, and so it was decided that he would go and visit her. When the time came she told him to tell his sister that she should now come over and choose a suitable bride for him.

The boy set off and on his way he faced the rising level of river, which made it impossible for him to cross the road. There was also the danger of snakes. The boy requested the river not to drown him and told the snakes that they can bite him on his return journey, after he meets his only sister. The snake agreed, and the boy proceeded. Now, he came to a mountain, which started through big stones on him, and he again pleaded with it to let him go. The mountain also agreed. When the boy was near his sister's village, a big tiger appeared and decided to eat him up. He also pleaded to the tiger and promised him that the tiger can feed on him on his return journey.

The poor boy knew now that is days were numbered, still, he eagerly went along to meet his only sister. He entered the house, and saw that she was doing the Bhai Dooj puja. The sister on seeing him after such a long time, welcomed her brother with a smile and embraced him. She at once brought lovely fruits and sweet meats to eat. She set about preparing kheer, puri, kachori, and lots of other tasty items. When her husband came after work, both of them provided a very enjoyable and memorable time to the young lad, so that he was full of joy.

Days passed, and it was time for the brother to take leave of his sister and brother-in-law. Before returning back, the brother narrated the whole incident to his sister and told her that his days were numbered and that he is soon going to die. The sister was shocked, but she decided to accompany him for the return journey. She secretly packed some meat for the tiger, some milk for the snake, flowers of silver and gold for the mountain and some roli and rice for the river.

Soon they were on their way and, of course, the tiger came first to eat up the brother. The sister gave him the meat and he went his way. Then came the mountain, which wanted to fall on her brother. She quickly performed puja with the gold and silver flowers and the mountain was very pleased with the offerings and stopped falling. Then it was the turn of the snake, and it was given the milk, and went away satisfied. They now reached the river and as was expected, it started to rise, but the sister subdued it by doing puja with roli and rice, and the river went down.

Both, brother and sister were very happy to escape the dangers of the forest and were anxious to reach home. The sister was now tired and thirsty. Soon she saw some gypsies working far away. She wanted to ask them for water, so the brother sat down under a tree-happy to be alive-and she went to the gypsies and got some water. Their the gypsies predicted that the danger was not over and her brother will die very soon. She asked them to tell her some way by which this calamity could be averted. One old woman came to her rescue and suggested that until her brother gets married, she should go on cursing him, right from now on and continuous to curse him all through the wedding and also insists on getting all rituals done to her first, only then this boy can be saved.

As soon as she reached near her brother, she started to curse him and to abuse him. The poor fellow was taken by surprise, but she continued calling him bad names. This thing continued even when they reached home. The mother, along with the villagers were very surprised at the nasty behavior of the sister, but no said anything as she was married and had came to her mother's place after a long time.

Soon, the brother's marriage was fixed to a beautiful girl. Still the sister went on cursing on any pretext. Everyone wanted the wedding to be over as soon as possible and the sister to be sent back to her village. On the wedding day, she insisted that all rituals be performed on her before her brother. The sister insisted that they tie the sehra on her forehead first. She found a small snake in the sehra instead of a string. She pulled out the snake. Next, the sister insisted that the barat (marriage procession) should go from the back door and not from the front door and no decorations be made. When the barat was to start, somehow the sister had fallen asleep. Ignoring her words, the barat started from beautiful front porch. But, no longer had everyone gather, the whole porch fell down, and narrowly missed the groom.

Now the time for the pheras (going round the fire) arrived and the sister had again gone to sleep. As soon as the first round of the pheras was done, the boy fell down in a dead faint, because of the evil spirits who had come to take him away. The sister woke up on hearing the noise and came cursing in to the courtyard. Hearing the abuses and seeing her blazing eyes, the evil spirits fled. It was now time for the boy and the girl to give kheer to each other. They let the sister have the first morsel from which she took out a hedgehog's spiked needle and quickly put it in her tiny bag as well.

The wedding was finally over and every one including the mother and brother were keen to see the sister leave. Before leaving for her husbands place, the sister narrated the prediction of the gypsies and gave the reason for her bad behavior. Everyone had tears in their eyes and they hugged her feet, and all present said with one voice: 'Let everyone have a sister like this, who is willing to be talked ill of, and will go about looking wild and angry even during a wedding, although it was to be the only wedding in the family - all this just to save her brother and family from disaster.

Thus, the custom is prevalent that a brother does not go to his sisters house for the teeka; instead the sisters bring or send the teeka to the brother, as danger may lurk on the way.

Monday, October 24, 2011

धनतेरस की शुभ कामनाएं

कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन ही धन्वन्तरि का जन्म हुआ था इसलिए इस तिथि को धनतेरस के नाम से जाना जाता है । धन्वन्तरी जब प्रकट हुए थे तो उनके हाथो में अमृत से भरा कलश था। भगवान धन्वन्तरी चुकि कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए ही इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परम्परा है। कहीं कहीं लोकमान्यता के अनुसार यह भी कहा जाता है कि इस दिन धन (वस्तु) खरीदने से उसमें 13 गुणा वृद्धि होती है। इस अवसर पर धनिया के बीज खरीद कर भी लोग घर में रखते हैं। दीपावली के बाद इन बीजों को लोग अपने बाग-बगीचों में या खेतों में बोते हैं।जिस प्रकार देवी लक्ष्मी सागर मंथन से उत्पन्न हुई थी उसी प्रकार भगवान धनवन्तरि भी अमृत कलश के साथ सागर मंथन से उत्पन्न हुए हैं। देवी लक्ष्मी हालांकि की धन देवी हैं परन्तु उनकी कृपा प्राप्त करने के लिए आपको स्वस्थ्य और लम्बी आयु भी चाहिए यही कारण है दीपावली दो दिन पहले से ही यानी धनतेरस से ही दीपामालाएं सजने लगती हें।धनतेरस के दिन चांदी खरीदने की भी प्रथा है। इसके पीछे यह कारण माना जाता है कि यह चन्द्रमा का प्रतीक है जो शीतलता प्रदान करता है और मन में संतोष रूपी धन का वास होता है। संतोष को सबसे बड़ा धन कहा गया है। जिसके पास संतोष है वह स्वस्थ है सुखी है और वही सबसे धनवान है। भगवान धन्वन्तरी जो चिकित्सा के देवता भी हैं उनसे स्वास्थ्य और सेहत की कामना के लिए संतोष रूपी धन से बड़ा कोई धन नहीं है। लोग इस दिन ही दीपावली की रात लक्ष्मी गणेश की पूजा हेतु मूर्ति भी खरीदते हें।
धनतेरस की शाम घर के बाहर मुख्य द्वार पर और आंगन में दीप जलाने की प्रथा भी है। इस प्रथा के पीछे एक लोक कथा है, कथा के अनुसार किसी समय में एक राजा थे जिनका नाम हेम था। दैव कृपा से उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। ज्योंतिषियों ने जब बालक की कुण्डली बनाई तो पता चला कि बालक का विवाह जिस दिन होगा उसके ठीक चार दिन के बाद वह मृत्यु को प्राप्त होगा। राज इस बात को जानकर बहुत दुखी हुआ और राजकुमार को ऐसी जगह पर भेज दिया जहां किसी स्त्री की परछाई भी न पड़े। दैवयोग से एक दिन एक राजकुमारी उधर से गुजरी और दोनों एक दूसरे को देखकर मोहित हो गये और उन्होंने गन्धर्व विवाह कर लिया।

विवाह के पश्चात विधि का विधान सामने आया और विवाह के चार दिन बाद यमदूत उस राजकुमार के प्राण लेने आ पहुंचे। जब यमदूत राजकुमार प्राण ले जा रहे थे उस वक्त नवविवाहिता उसकी पत्नी का विलाप सुनकर उनका हृदय भी द्रवित हो उठा परंतु विधि के अनुसार उन्हें अपना कार्य करना पड़ा। यमराज को जब यमदूत यह कह रहे थे उसी वक्त उनमें से एक ने यमदेवता से विनती की हे यमराज क्या कोई ऐसा उपाय नहीं है जिससे मनुष्य अकाल मृत्यु के लेख से मुक्त हो जाए। दूत के इस प्रकार अनुरोध करने से यमदेवता बोले हे दूत अकाल मृत्यु तो कर्म की गति है इससे मुक्ति का एक आसान तरीका मैं तुम्हें बताता हूं सो सुनो। कार्तिक कृष्ण पक्ष की रात जो प्राणी मेरे नाम से पूजन करके दीप माला दक्षिण दिशा की ओर भेट करता है उसे अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता है । यही कारण है कि लोग इस दिन घर से बाहर दक्षिण दिशा की ओर दीप जलाकर रखते हैं।

धन्वन्तरि देवताओं के वैद्य हैं और चिकित्सा के देवता माने जाते हैं इसलिए चिकित्सकों के लिए धनतेरस का दिन बहुत ही महत्व पूर्ण होता है। धनतेरस के संदर्भ में एक लोक कथा प्रचलित है कि एक बार यमराज ने यमदूतों से पूछा कि प्राणियों को मृत्यु की गोद में सुलाते समय तुम्हारे मन में कभी दया का भाव नहीं आता क्या। दूतों ने यमदेवता के भय से पहले तो कहा कि वह अपना कर्तव्य निभाते है और उनकी आज्ञा का पालन करते हें परंतु जब यमदेवता ने दूतों के मन का भय दूर कर दिया तो उन्होंने कहा कि एक बार राजा हेमा के ब्रह्मचारी पुत्र का प्राण लेते समय उसकी नवविवाहिता पत्नी का विलाप सुनकर हमारा हृदय भी पसीज गया लेकिन विधि के विधान के अनुसार हम चाह कर भी कुछ न कर सके।

एक दूत ने बातों ही बातों में तब यमराज से प्रश्न किया कि अकाल मृत्यु से बचने का कोई उपाय है क्या। इस प्रश्न का उत्तर देते हुए यम देवता ने कहा कि जो प्राणी धनतेरस की शाम यम के नाम पर दक्षिण दिशा में दीया जलाकर रखता है उसकी अकाल मृत्यु नहीं होती है। इस मान्यता के अनुसार धनतेरस की शाम लोग आँगन मे यम देवता के नाम पर दीप जलाकर रखते हैं। इस दिन लोग यम देवता के नाम पर व्रत भी रखते हैं।

धनतेरस के दिन दीप जलाककर भगवान धन्वन्तरि की पूजा करें। भगवान धन्वन्तरी से स्वास्थ और सेहतमंद बनाये रखने हेतु प्रार्थना करें। चांदी का कोई बर्तन या लक्ष्मी गणेश अंकित चांदी का सिक्का खरीदें। नया बर्तन खरीदे जिसमें दीपावली की रात भगवान श्री गणेश व देवी लक्ष्मी के लिए भोग चढ़ाएं।

धनतेरस की शुभ कामनाएं

धनतेरस की शुभ कामनाएं

कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन ही धन्वन्तरि का जन्म हुआ था इसलिए इस तिथि को धनतेरस के नाम से जाना जाता है । धन्वन्तरी जब प्रकट हुए थे तो उनके हाथो में अमृत से भरा कलश था। भगवान धन्वन्तरी चुकि कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए ही इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परम्परा है। कहीं कहीं लोकमान्यता के अनुसार यह भी कहा जाता है कि इस दिन धन (वस्तु) खरीदने से उसमें 13 गुणा वृद्धि होती है। इस अवसर पर धनिया के बीज खरीद कर भी लोग घर में रखते हैं। दीपावली के बाद इन बीजों को लोग अपने बाग-बगीचों में या खेतों में बोते हैं।जिस प्रकार देवी लक्ष्मी सागर मंथन से उत्पन्न हुई थी उसी प्रकार भगवान धनवन्तरि भी अमृत कलश के साथ सागर मंथन से उत्पन्न हुए हैं। देवी लक्ष्मी हालांकि की धन देवी हैं परन्तु उनकी कृपा प्राप्त करने के लिए आपको स्वस्थ्य और लम्बी आयु भी चाहिए यही कारण है दीपावली दो दिन पहले से ही यानी धनतेरस से ही दीपामालाएं सजने लगती हें।धनतेरस के दिन चांदी खरीदने की भी प्रथा है। इसके पीछे यह कारण माना जाता है कि यह चन्द्रमा का प्रतीक है जो शीतलता प्रदान करता है और मन में संतोष रूपी धन का वास होता है। संतोष को सबसे बड़ा धन कहा गया है। जिसके पास संतोष है वह स्वस्थ है सुखी है और वही सबसे धनवान है। भगवान धन्वन्तरी जो चिकित्सा के देवता भी हैं उनसे स्वास्थ्य और सेहत की कामना के लिए संतोष रूपी धन से बड़ा कोई धन नहीं है। लोग इस दिन ही दीपावली की रात लक्ष्मी गणेश की पूजा हेतु मूर्ति भी खरीदते हें।
धनतेरस की शाम घर के बाहर मुख्य द्वार पर और आंगन में दीप जलाने की प्रथा भी है। इस प्रथा के पीछे एक लोक कथा है, कथा के अनुसार किसी समय में एक राजा थे जिनका नाम हेम था। दैव कृपा से उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। ज्योंतिषियों ने जब बालक की कुण्डली बनाई तो पता चला कि बालक का विवाह जिस दिन होगा उसके ठीक चार दिन के बाद वह मृत्यु को प्राप्त होगा। राज इस बात को जानकर बहुत दुखी हुआ और राजकुमार को ऐसी जगह पर भेज दिया जहां किसी स्त्री की परछाई भी न पड़े। दैवयोग से एक दिन एक राजकुमारी उधर से गुजरी और दोनों एक दूसरे को देखकर मोहित हो गये और उन्होंने गन्धर्व विवाह कर लिया।

विवाह के पश्चात विधि का विधान सामने आया और विवाह के चार दिन बाद यमदूत उस राजकुमार के प्राण लेने आ पहुंचे। जब यमदूत राजकुमार प्राण ले जा रहे थे उस वक्त नवविवाहिता उसकी पत्नी का विलाप सुनकर उनका हृदय भी द्रवित हो उठा परंतु विधि के अनुसार उन्हें अपना कार्य करना पड़ा। यमराज को जब यमदूत यह कह रहे थे उसी वक्त उनमें से एक ने यमदेवता से विनती की हे यमराज क्या कोई ऐसा उपाय नहीं है जिससे मनुष्य अकाल मृत्यु के लेख से मुक्त हो जाए। दूत के इस प्रकार अनुरोध करने से यमदेवता बोले हे दूत अकाल मृत्यु तो कर्म की गति है इससे मुक्ति का एक आसान तरीका मैं तुम्हें बताता हूं सो सुनो। कार्तिक कृष्ण पक्ष की रात जो प्राणी मेरे नाम से पूजन करके दीप माला दक्षिण दिशा की ओर भेट करता है उसे अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता है । यही कारण है कि लोग इस दिन घर से बाहर दक्षिण दिशा की ओर दीप जलाकर रखते हैं।

धन्वन्तरि देवताओं के वैद्य हैं और चिकित्सा के देवता माने जाते हैं इसलिए चिकित्सकों के लिए धनतेरस का दिन बहुत ही महत्व पूर्ण होता है। धनतेरस के संदर्भ में एक लोक कथा प्रचलित है कि एक बार यमराज ने यमदूतों से पूछा कि प्राणियों को मृत्यु की गोद में सुलाते समय तुम्हारे मन में कभी दया का भाव नहीं आता क्या। दूतों ने यमदेवता के भय से पहले तो कहा कि वह अपना कर्तव्य निभाते है और उनकी आज्ञा का पालन करते हें परंतु जब यमदेवता ने दूतों के मन का भय दूर कर दिया तो उन्होंने कहा कि एक बार राजा हेमा के ब्रह्मचारी पुत्र का प्राण लेते समय उसकी नवविवाहिता पत्नी का विलाप सुनकर हमारा हृदय भी पसीज गया लेकिन विधि के विधान के अनुसार हम चाह कर भी कुछ न कर सके।

एक दूत ने बातों ही बातों में तब यमराज से प्रश्न किया कि अकाल मृत्यु से बचने का कोई उपाय है क्या। इस प्रश्न का उत्तर देते हुए यम देवता ने कहा कि जो प्राणी धनतेरस की शाम यम के नाम पर दक्षिण दिशा में दीया जलाकर रखता है उसकी अकाल मृत्यु नहीं होती है। इस मान्यता के अनुसार धनतेरस की शाम लोग आँगन मे यम देवता के नाम पर दीप जलाकर रखते हैं। इस दिन लोग यम देवता के नाम पर व्रत भी रखते हैं।

धनतेरस के दिन दीप जलाककर भगवान धन्वन्तरि की पूजा करें। भगवान धन्वन्तरी से स्वास्थ और सेहतमंद बनाये रखने हेतु प्रार्थना करें। चांदी का कोई बर्तन या लक्ष्मी गणेश अंकित चांदी का सिक्का खरीदें। नया बर्तन खरीदे जिसमें दीपावली की रात भगवान श्री गणेश व देवी लक्ष्मी के लिए भोग चढ़ाएं।

संसार के रचयिता को

जब हम अपने को उन्हें (संसार के रचयिता को) इस भाव से देते हैं कि तेरा तुझको देता हूँ, यद्यपि यह तेरा है, लेकिन इस समय मेरा है । अब में तेरा दिया हुआ तुझको देता हूँ । तब वे स्वयं बड़े अधीर होने लगते हैं, आकुल-व्याकुल होने लगते हैं कि मैंने मानव को सब कुछ पहले ही दे दिया, अब मेरे पास क्या रह गया है कि जिससे में इसका बदला चूका सकूँ । मानव ने मेरा दिया हुआ अब मुझे दे दिया है । तब उनसे नहीं रहा जाता और वे कहने लगते हैं - में तेरा हूँ, में तेरा हूँ । जब प्रेमीजनों को उनकी यह आवाज सुनाई देती है, तो प्रेमीजन कहने लगते हैं - तुम्हीं हो, तुम्हीं हो, हर समय तुम्हीं हो, तुम्हीं मेरे जीवन हो, प्राणधन हो, प्राणेश्वर हो, प्राणवल्लभ हो, प्राणप्रिय हो, तुम्हीं हो, तुम्हीं हो । जब वे यह सुनते हैं, तब वे स्वयं कहने लगते हैं - नहीं-नहीं, मैं तेरा हूँ, मैं तेरा हूँ । यहाँ तक कहने लगते हैं कि तुने जो किया है, वह कोई नहीं कर सकता ।

क्या दिया है तुने ? तुने अपने को मुझ पर न्यौछावर किया है, अपने आपको मेरे लिए खो दिया है । अब तो मैं तेरा ऋणी हूँ । तब प्रेमीजन कहने लगते हैं कि मेरा तो कभी कुछ था नहीं, तुम्हारा ही था और तुम्हीं थे, तुम्हीं हो, जो आकर्षण है वह तुम्हारा ही है, सब कुछ तुम्हीं से हुआ है, सब कुछ तुम्हीं में है । ऐसा जो प्रीति और प्रियतम का नित्य विहार है, यही मानव का निज-जीवन है ।

Thursday, October 20, 2011

hey sat gurudev

हे  सदगुरु।
भक्तों के कल्पतरु।

हमारी आपसे प्रार्थना है कि आपके अभय चरणों की हमें कभी विस्मृति न हो । आपके श्री चरण कभी भी हमारी दृष्टि से ओझल न हों । हम इस जन्म-मृत्यु के चक्र से संसार में अधिक दुखी है । अब दयाकर इस चक्र से हमारा शीघ्र उद्घार कर दो । ...हमारी इन्द्रियाँ, जो विषय-पदार्थों की ओर आकर्षित हो रही है, उनकी बाहृ प्रवृत्ति से रक्षा कर, उन्हें अंतर्मुखी बना कर हमें आत्म-दर्शन के योग्य बना दो । जब तक हमारी इन्द्रयों की बहिमुर्खी प्रवृत्ति और चंचल मन पर अंकुश नहीं है, तब तक आत्मसाक्षात्कार की हमें कोई आशा नहीं है । हमारे पुत्र और मित्र, कोई भी अन्त में हमारे काम न आयेंगे । हे साई । हमारे तो एकमात्र तुम्हीं हो, जो हमें मोक्ष और आनन्द प्रदान करोगे । हे प्रभु । हमारी तर्कवितर्क तथा अन्य कुप्रवृत्तियों को नष्ट कर दो । हमारी जिहृ सदैव तुम्हारे नामस्मरण का स्वाद लेती रहे । हे साई । हमारे अच्छे बुरे सब प्रकार के विचारों को नष्ट कर दो । प्रभु । कुछ ऐसा कर दो कि जिससे हमें अपने शरीर और गृह में आसक्ति न रहे । हमारा अहंकार सर्वथा निर्मूल हो जाय और हमें एकमात्र तुम्हारे ही नाम की स्मृति बनी रहे तथा शेष सबका विस्मरण हो जाय । हमारे मन की अशान्ति को दूर कर, उसे स्थिर और शान्त करो । हे साई । यदि तुम हमारे हाथ अपने हाथ में ले लोगे तो अज्ञानरुपी रात्रि का आवरण शीघ्र दूर हो जायेगा और हम तुम्हारे ज्ञान-प्रकाश में सुखपूर्वक विचरण करने लगेंगे । यह जो तुम्हारा लीलामृत पान करने का सौभाग्य हमें प्राप्त हुआ तथा जिसने हमें अखण्ड निद्रा से जागृत कर दिया है, यह तुम्हारी ही कृपा और हमारे गत जन्मों के शुभ कर्मों का ही फल है ।

O Sadguru.
Kalpataru devotees.

We pray to you that your Abbey steps we have never forgotten. He steps you do not ever lose our vision. We are born - from the cycle of death in the world is more miserable. Let us quickly revive the Dayakar this cycle. ... Our senses, the subject - are attracted to substances, to protect their external behavior, we make them introverted self-made philosophy worthy of the two. Our Indrayon Bhimurki of the trend and playful mind is not checked, then do not expect us to self-realization. Our son and friend, no one in the end will not work. O psi. If only we're the only one who will give us salvation and happiness. Lord. We argue and destroy the other Kuprvrittion. Our Jihri Namsmrn taste of you always, to lie. O psi. Destroy the views of all our good and bad. God. Some do not let that which we are attached to your body and home.Disturbance of our mind away, take it steady and calm. O psi. If you will take our hands off the Ajञanrupi will soon cover of night, and we know you - the light will happily variance. We had the privilege of drinking it you Leelamrit and one who has awakened from dormancy is continuous, it is your own good deeds of kindness and is a result of our past lives.

Monday, October 17, 2011

मेरे बापू

मेरे बापू का कहना है करना है तो काम करो नेक इसलिये मन्दिर की घंटी न बजा कर हो सके तो अपने व्यस्त जीवन से कुछ समाये निकल कर ..............

जो बैठा है बूढा अकेला पार्क में, हो सके तो कुछ समय उसके साथ बिताइये ,

मेरे बापू जी का कहना है मंदिर न जाकर,

उस पीड़ित परिवार की मदद कर आइये,जो हस्पताल में पेरशान है !

जो दुखी हो लाचार हो किसी के परिवार में कोई, उस परिवार को सांतवना दे आयिए!

एक चौराहे पर खड़ा युवक काम की तलाश में, उसे रोजगार के अवसर दिलाइये,

मेरे बापू कहते है चाय कि दुकान पर उस अनाथ बच्चे के साथ रहो उसको पढने के लिए स्कूल भिजवा दो

जो कप प्लेट धो रहा है, पाल सकते हो , पढ़ा सकते हो , तो पढाइये,


एक बूढी औरत है जो दर - दर भटक रही है, एक अच्छा सा लिबास दिलाइये,

हो सके तो नारी आश्रम छोड़ आईये,

मेरे बापू कहते मुझे ढूडने मंदिर मस्जिद मत जाओ, न ही मंदिर की घंटी बजाओ! में तो रहता हु सबके दिल में हो सके तो किसी रोते को हसना सिखा दो, भूखे को भोजन, प्यासे को पानी, भटके हुवे को राह दिखा दो ! में खुश हो जाऊंगा मेरे प्यारे बच्चे जब भी पुकारोगे भगा भगा चला आऊंगा 

Friday, October 14, 2011

bapu ji ki jai
likho main kavita
ho usme bas bapu ji ki jai
likhu main paath
ho usme bas bapu ji ki jai
lihku main lekh
ho usme bas bapu ji ki jai
padu main kitab
ho usme bas bapu ji ki jai
padu main kavita
ho usme bas bapu ji ki jai
sunu main jo bhi
ho usme bas bapu ji ki jai
gaau main jo bhi
ho usme bas bapu ji ki jai
jau main kidhar bhi
ho usme bas bapu ji ki jai
jau main jidhar bhi
ho usme bas bapu ji ki jai
rahu main kahin bhi
ho usme bas bapu ji ki jai
jiyu main acche se
ho usme bas bapu ji ki jai

jiyu main kaise bhi
ho usme bas bapu ji ki jai
jiyu ya maru
ho usme bas bapu ji ki jai
ho is duniya jo kuch bhi
ho usme bas bapu ji ki jai

ho usme bas bapu ji ki jai
hai jis mein sabki bhalai
isiliye
ho sab duniya mein
ho usme bas bapu ji ki jai
bapu ji ki jai
bapu ji ki jai
JAI GURUDEV..♥ ♥

bapuji ki sharan

<3 <3 <3 <3 om GURU om <3 <3 <3 <3

maa ki god ke samaan hai mere bapuji ki sharan

rahun main sada nikat bapuji ke charan

shukriya apne bapuji ka har pal karun

asli bhakti shukraguzari dhyan mai dharu

jeevan ko maanu bapuji ki saugat

bapuji savaro ise or rakhna meri laj

beta hun main aapka bapuji

bnao mujhe apne pth ka rahi

saath chalo , god main uthao












glti krne se bchao, mushkilon ko htao

nhi chahta main kuch aur aapse

bs apna priy bnao aur rakho saath main

kbhi bhi khud ko akela naa paun

jeevan ke hr pg pe apne saath aapke charan paun

aati nahi mujhe aapki stuti karni

sikhao mujhe sab kuch leke sharan main apni

aur nhi hai koi mera jisse karun main dil ki baat

bs jao mere mn main jaise koi bhagwan ki saugat

i love u bapuji

Tuesday, October 4, 2011

read it

जय श्रीमन्नारायण,
 धर्म मानव कि एक आवश्यकता है, धर्म किसी के विचारों का गुलाम नहीं है | धर्म किसी एक मत, पंथ या संप्रदाय का गुलाम नहीं हैं | भोजन से भी ज्यादा आवश्यक है, धर्म ! धर्म कहने मात्र से पूरा नहीं होता, वरन धर्म एक कर्तब्य है | जिसे करना पड़ता है, कहना क्या है, जैसे -- हरि ब्यापक सर्वत्र समाना | ये कथनी हुआ ! लेकिन इसी को जब अपने आचरण में उतारने का हम प्रयास करते हैं, तो हमें पता चलता है | और जबतक हम अपने आचरण में उतारते नहीं यह धर्म नहीं कहा जायेगा | 

इसी तरह धर्म कि जो अनेकानेक परिभाषाएं आज प्रचलित हैं | अधिकांशतः ये परिभाषाये धर्म के मार्ग का सबसे बड़ा रोड़ा है, जिसे अधर्म कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा | जैसे:-- एक यजमान पंडित जी के पास पहुंचा, और बोला --- सच्चे ब्राह्मण मिलते कहाँ हैं महाराज | जो दक्षिणा के लिए मुंह ना खोले वही सच्चा ब्राह्मण है, लेकिन आज तो बाजार बन गया है | इस बात को सुनकर ब्राह्मण को लगा कि कहीं सच में हम बाजारू तो नहीं हो गए | तो उसने कहा अब आज से दक्षिणा मांगना बंद | थोड़े दिनों बाद फिर से वही यजमान आया महाराज पूजा करवाना है, क्या दक्षिणा लेते हैं | ब्राह्मण ने कहा नहीं भाई जी मैं तो दक्षिणा मांगता नहीं हूँ, जो मिल जाये उसी से गुजर-बसर कर लेता हूँ | उसने कहा महाराज आप महान हैं, आपके दर्शन से धन्य हो गया मैं |

वो इन्सान पूजा कराया और दक्षिणा दिया आज के ज़माने में ५१/- मुंबई जैसे शहर में | दो-चार महीने में पंडित जी कि बोरिया बिस्तर बंधी और गाँव | क्योंकि खर्चा चलाना मुश्किल है, इस महंगाई के ज़माने में | अब आप बताइए इसे धर्म कहेंगे अथवा अधर्म ! ये उस यजमान के द्वारा पाप हुआ या पुण्य | हम या तो दिखावे के लिए धर्म करते हैं, या मजबूरी में अपनी मान्यताओं के आधार पर या तो फिर रूढ़िवादिता के वजह से | सच्चे मायने में धर्म कि परिभाषा क्या है, इसका निर्धारण समय परिस्थिति और  समाज के आधार पर किया जाना चाहिए | जो आज तक होते आया है, और होना भी चाहिए | वरना एकम सद विप्रा बहुधा वदन्ति | धरम न दुसर सत्य समाना ! आगम निगम पुराण बखाना | सत्य बोलो धर्म कि दूसरी कोई परिभाषा जानने कि कोई आवश्यकता ही नहीं है ||

|| जय श्रीमन्नारायण ||

read it

जय श्रीमन्नारायण,
 धर्म मानव कि एक आवश्यकता है, धर्म किसी के विचारों का गुलाम नहीं है | धर्म किसी एक मत, पंथ या संप्रदाय का गुलाम नहीं हैं | भोजन से भी ज्यादा आवश्यक है, धर्म ! धर्म कहने मात्र से पूरा नहीं होता, वरन धर्म एक कर्तब्य है | जिसे करना पड़ता है, कहना क्या है, जैसे -- हरि ब्यापक सर्वत्र समाना | ये कथनी हुआ ! लेकिन इसी को जब अपने आचरण में उतारने का हम प्रयास करते हैं, तो हमें पता चलता है | और जबतक हम अपने आचरण में उतारते नहीं यह धर्म नहीं कहा जायेगा | 

इसी तरह धर्म कि जो अनेकानेक परिभाषाएं आज प्रचलित हैं | अधिकांशतः ये परिभाषाये धर्म के मार्ग का सबसे बड़ा रोड़ा है, जिसे अधर्म कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा | जैसे:-- एक यजमान पंडित जी के पास पहुंचा, और बोला --- सच्चे ब्राह्मण मिलते कहाँ हैं महाराज | जो दक्षिणा के लिए मुंह ना खोले वही सच्चा ब्राह्मण है, लेकिन आज तो बाजार बन गया है | इस बात को सुनकर ब्राह्मण को लगा कि कहीं सच में हम बाजारू तो नहीं हो गए | तो उसने कहा अब आज से दक्षिणा मांगना बंद | थोड़े दिनों बाद फिर से वही यजमान आया महाराज पूजा करवाना है, क्या दक्षिणा लेते हैं | ब्राह्मण ने कहा नहीं भाई जी मैं तो दक्षिणा मांगता नहीं हूँ, जो मिल जाये उसी से गुजर-बसर कर लेता हूँ | उसने कहा महाराज आप महान हैं, आपके दर्शन से धन्य हो गया मैं |

वो इन्सान पूजा कराया और दक्षिणा दिया आज के ज़माने में ५१/- मुंबई जैसे शहर में | दो-चार महीने में पंडित जी कि बोरिया बिस्तर बंधी और गाँव | क्योंकि खर्चा चलाना मुश्किल है, इस महंगाई के ज़माने में | अब आप बताइए इसे धर्म कहेंगे अथवा अधर्म ! ये उस यजमान के द्वारा पाप हुआ या पुण्य | हम या तो दिखावे के लिए धर्म करते हैं, या मजबूरी में अपनी मान्यताओं के आधार पर या तो फिर रूढ़िवादिता के वजह से | सच्चे मायने में धर्म कि परिभाषा क्या है, इसका निर्धारण समय परिस्थिति और  समाज के आधार पर किया जाना चाहिए | जो आज तक होते आया है, और होना भी चाहिए | वरना एकम सद विप्रा बहुधा वदन्ति | धरम न दुसर सत्य समाना ! आगम निगम पुराण बखाना | सत्य बोलो धर्म कि दूसरी कोई परिभाषा जानने कि कोई आवश्यकता ही नहीं है ||

|| जय श्रीमन्नारायण ||
जय श्रीमन्नारायण,
 धर्म मानव कि एक आवश्यकता है, धर्म किसी के विचारों का गुलाम नहीं है | धर्म किसी एक मत, पंथ या संप्रदाय का गुलाम नहीं हैं | भोजन से भी ज्यादा आवश्यक है, धर्म ! धर्म कहने मात्र से पूरा नहीं होता, वरन धर्म एक कर्तब्य है | जिसे करना पड़ता है, कहना क्या है, जैसे -- हरि ब्यापक सर्वत्र समाना | ये कथनी हुआ ! लेकिन इसी को जब अपने आचरण में उतारने का हम प्रयास करते हैं, तो हमें पता चलता है | और जबतक हम अपने आचरण में उतारते नहीं यह धर्म नहीं कहा जायेगा | 

इसी तरह धर्म कि जो अनेकानेक परिभाषाएं आज प्रचलित हैं | अधिकांशतः ये परिभाषाये धर्म के मार्ग का सबसे बड़ा रोड़ा है, जिसे अधर्म कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा | जैसे:-- एक यजमान पंडित जी के पास पहुंचा, और बोला --- सच्चे ब्राह्मण मिलते कहाँ हैं महाराज | जो दक्षिणा के लिए मुंह ना खोले वही सच्चा ब्राह्मण है, लेकिन आज तो बाजार बन गया है | इस बात को सुनकर ब्राह्मण को लगा कि कहीं सच में हम बाजारू तो नहीं हो गए | तो उसने कहा अब आज से दक्षिणा मांगना बंद | थोड़े दिनों बाद फिर से वही यजमान आया महाराज पूजा करवाना है, क्या दक्षिणा लेते हैं | ब्राह्मण ने कहा नहीं भाई जी मैं तो दक्षिणा मांगता नहीं हूँ, जो मिल जाये उसी से गुजर-बसर कर लेता हूँ | उसने कहा महाराज आप महान हैं, आपके दर्शन से धन्य हो गया मैं |

वो इन्सान पूजा कराया और दक्षिणा दिया आज के ज़माने में ५१/- मुंबई जैसे शहर में | दो-चार महीने में पंडित जी कि बोरिया बिस्तर बंधी और गाँव | क्योंकि खर्चा चलाना मुश्किल है, इस महंगाई के ज़माने में | अब आप बताइए इसे धर्म कहेंगे अथवा अधर्म ! ये उस यजमान के द्वारा पाप हुआ या पुण्य | हम या तो दिखावे के लिए धर्म करते हैं, या मजबूरी में अपनी मान्यताओं के आधार पर या तो फिर रूढ़िवादिता के वजह से | सच्चे मायने में धर्म कि परिभाषा क्या है, इसका निर्धारण समय परिस्थिति और  समाज के आधार पर किया जाना चाहिए | जो आज तक होते आया है, और होना भी चाहिए | वरना एकम सद विप्रा बहुधा वदन्ति | धरम न दुसर सत्य समाना ! आगम निगम पुराण बखाना | सत्य बोलो धर्म कि दूसरी कोई परिभाषा जानने कि कोई आवश्यकता ही नहीं है ||

|| जय श्रीमन्नारायण ||

Wednesday, September 14, 2011

एकाग्रता

एकाग्रता के अभ्यास के साथ-साथ विवेक जगाते रहो। इतना कर लिया, आखिर क्या? इतना सारा समय इन्द्रियजगत में, मन की कल्पनाओं में चला जाये तो मनुष्य जीवन का अनर्थ हुआ। मनुष्य का मतलब क्या? मनसा सीव्यति इति मनुष्यः। मन से जो सी ले, सम्बन्ध जोड़ ले वह मनुष्य।' यह चद्दर हमारी... यह थाली हमारी... यह पैन्ट हमारी.... यह टाई हमारी....।' अरे ! टाई को अपनी कह सकते हो तो उस परमात्मा को अपना बनाने में तुम्हारा क्या जाता है? वास्तव में परमात्मा के सिवाय और कुछ तुम्हारा है ही नहीं। लेकिन चेतन से उत्पन्न होने के कारण मन में ऐसा कुछ चमत्कार है कि वह जैसा सोचता है वैसा सत्य ही भासता है। सत्यस्वरूप से ही मन फुरता है। आप जैसा सोचते हैं वैसा सत्य भासने लगता है। आप सोचें कि जगत में दुःख है, पीड़ा है, मुसीबत है तो जगत बिल्कुल ऐसा ही लगेगा। भोग की नज़र से देखेंगे तो जगत भोगने के लिए है ऐसा लगेगा। लेकिन संसार के स्वामी को पहचानने के लिए विचित्र परिस्थितियों से पसार होकर अंतिम लक्ष्य तक पहुँचाने की पाठशाला की नजर से संसार को देखेंगे तो उसमें आप उत्तीर्ण होते जायेंगे।
आपसे कोई ऊँचा दिखता है तो आप सिकुड़ मत जाना। कोई आपसे ज्ञान में, समझ में छोटा दिखता है तो अकड़ मत जाना। वह छोटा विद्यार्थी है। पढ़ते-पढ़ते, ठोकर खाते-खाते वह भी एक दिन पास हो जायेगा। जो उँचे पहुँचा हुआ है वहाँ एक दिन आप भी पहुँच जाओगे। बड़े को देखकर ईर्ष्या और छोटे को देखकर घृणा नहीं होना चाहिए। जो बड़े में है वही का छोटे में छुपा है और मुझमें भी वही का वही है।
ऐसा कोई बीज नहीं जिसमें अनन्त वृक्ष न छिपे हों। जरा-से-बीज में लाखों करोड़ों वृक्षों की संभावनाएँ सुषुप्त पड़ी होती हैं। एक जीव में अनन्त जीवों की परंपरा निहित है।
मूल को छोड़ा और डाली पत्तों को पकड़ा तो संसार की अनन्तता में घसीटे जाओगे। डाली-पत्तों को छोड़कर मूल की ओर जाओगे तो अनेकता में एकता को पाओगे। अपने मूल की ओर सरकने के लिए शिवोऽहम्... सोऽहम्.... अहं ब्रह्मास्मि..... आदि का चिन्तन बड़ा सहायक है

Wednesday, August 24, 2011

वक्त

वक्त को जिसने नहीं समझा उसे मिटना पड़ा है,
बच गया तलवार से तो फूल से कटना पड़ा है,
क्यों न कितनी ही बड़ी हो, क्यों न कितनी ही कठिन हो,
हर नदी की राह से चट्टान को हटना पड़ा है,
उस सुबह से सन्धि कर लो,
हर किरन की मांग भर लो,
है जगा इन्सान तो मौसम बदलकर ही रहेगा।
जल गया है दीप तो अंधियार ढल कर ही रहेगा

Monday, August 22, 2011

नन्द गोपाल

झूलने मैं झूले मेरे नन्द गोपाल जी...
आज देवकी ने जनम दिया यशोदा नन्द लाल जी...
साईं संजीवन कहे सब जग को हार्दिक शुभ कामनाये दोस्तों 
लडू साईं बल गोपाल हो तेरा जनम दिन मुबारक सब संसार को...
हमे देना रख अपने नटखट गोपी गोपालो के संग ...
देदो न एक मुस्कान होठो पर ए मुरली धरा ..
हमको है इस दुनिया में सिर्फ एक तेरा सहारा....
जमन दिन गोपाल साईं जी का सब को मुबारक ....
जय राधे राधे कृष्ण कनैया मुरली बजैया...
साईं संजीवन परिवार की और से जनम अष्टमी की सब को शुभ कामनाये

Friday, August 19, 2011

रुद्राक्ष का औषधीय उपयोग

जय श्री कृष्ण,

श्री विनोद तिवारी जी, द्वारा लिखित लेख ----- मुझे तो अति सुन्दर एवं ज्ञान वर्धक लगा इसलिए आप सभी मित्रों के लिए भी ले आया ||
रुद्राक्ष का औषधीय उपयोग 
धार्मिक क्षेत्र में रुद्राक्ष अनादिकाल से ‘रुद्राक्ष माला’ के रूप में प्रचलित है और मंत्र सिद्धि के लिए इसका प्रयोग होते देखा गया है। तांत्रिक प्रयोग और सिद्धियों में भी इसका प्रयोग होता है। हमारे शरीर रूपी यंत्र को सुसंचालित करने के लिए भी रुद्राक्ष उपयोगी है। धर्मशास्त्र में रुद्राक्ष अपने बहुउपयोग के कारण शिवतुल्य मंगलकारी माना गया है। चिकित्साशास्त्र में भी रुद्राक्ष के चमत्कारी उपयोग भरे है। 
रुद्राक्ष श्वेत, लाल, पीत और कृष्ण इन चार रंगों में प्राप्त होता है। यह एकमुखी से चौदहमुखी तक प्राप्त होता है। विश्व में इसकी १२३ जातियां उपलब्ध है। भारत में २५ जातियां पाई जाती है।
भारत में यह हिमालय के पर्वतीय क्षेत्र, बंगाल, बिहार, असम, मध्यप्रदेश और विदेशों में नेपाल, मलेशिया, इंडोनेशिया, चीन आदि में मिलता है।
यह गुणों में गुरु और स्निन्ध, स्वाद में मधुर और वीर्य में शीतवीर्य होता है। रुद्राक्ष वेदनाशामक, ज्वरशामक, अंगों को सुद़ृढ करने वाला, श्वासनलिकाओं के अवरोध को दूर करने वाला, विषनाशक और उदर कृमिनाशक है। यह एक उत्तम त्रिदोष शामक है।
रुद्राक्ष वातनाशक तथा कफनाशक है। अनेक रोगों में यह बहुत उपयोगी है। इसके कुछ बहुपरीक्षित प्रयोग इस प्रकार है।
बहुपरीक्षितबहुउपयोगी रुद्राक्ष के प्रयोगः
* शिरशूलः सिर के दर्द में इसे पानी में घिसकर माथे पर चंदन की तरह लेप करने से तुरंत फायदा होता है।
* बालकों का श्वासकष्टः बच्चों में कफ का अवरोध होने पर रुद्राक्ष का चूर्ण रत्ती की मात्रा में शहद में मिलाकर बारबार चटाने से आसानी से कफ निकलता है और श्वासकष्ट भी ठीक हो जाता है।
* अतिसारः अतिसार रोग में इसके फल को पानी में घिसकर पिलाने से हितकारी है।
* मसूरिका व रोमान्तिकाः मसूरिका व रोमान्तिका में प्रसार की स्थिति में रुद्राक्ष की माला धारण करने से इनसे बचाव रहता है और रोग की स्थिति में भी इनके दुश्परिणाम नहीं होते।
* मानसिक रोगः रुद्राक्ष मानसिक रोग, अपस्मार (मिर्गी), आक्षेपक, अपतंत्रक, अनिद्रा आदि में विशेष लाभकारी होता है। इनमें इसकी माला धारण करने से लाभ होता है।
* वृक्करोगः गुर्दे के रोगों में, हिपाटेमेगाली (लीवरवृद्धि) में और कामला (पीलिया) में रुद्राक्ष के पानी का सेवन लाभकारी होता है।
* उच्च रक्तचापः हाई ब्लड प्रेशर में एक रुद्राक्ष को एक गिलास पानी में भिगों दें और सुबह इसका जल पीने को देवें। यह प्रयोग निरंतर करते रहें। हाई बीपी में रुद्राक्ष की माला का धारण भी काफी असरकारी होता है।
* अन्य रोगों में ए़ड्‌स की प्रारंभिक अवस्था में, क्षय रोग में, रक्तपित्त, कासश्वास, प्रमेह रोग में भी यह अतीव उपयोगी है। यह परम रसायन है और अनेक रोगों से बचाव भी करता है।

रुद्राक्ष धारण का चिकित्सकीय महत्वः
शरीर में रुद्राक्ष धारण करने से रोमकूप के माध्यम से रक्त की कोशिकाओं द्वारा रक्तवाहिनी, शिरा एवं धमनियों पर इसका प्रभाव होता है। 
रुद्राक्ष की माला गले में पहनने से और इसके हृदय प्रदेश पर लगे रहने से संस्पर्श द्वारा यह हृदय को बल देती है, इससे रक्त की शुद्धि होती है और रक्त परिभ्रमण में दोष उत्पन्न होने पर इसके प्रभाव से नष्ट हो जाते है। इससे रक्तचाप सामान्य बना रहता है। यह ब़़ढे हुए रक्तचाप को नियंत्रित करता है। इसकी १०८ की माला या इसके पांच नग या केवल एक रुद्राक्ष के धारण से भी लाभ होता है। औषधी में इसके फल, बीज, भस्म, छाल व पत्तों का प्रयोग होता है। रुद्राक्ष के पत्तों का रस जठराग्नि को प्रदीप्त करता है, यह पौष्टिक तथा कामोद्धीपक होता है।

|| जय श्री कृष्ण ||

बालकों का श्वासकष्

* बालकों का श्वासकष्टः बच्चों में कफ का अवरोध होने पर रुद्राक्ष का चूर्ण रत्ती की मात्रा में शहद में मिलाकर बारबार चटाने से आसानी से कफ निकलता है और श्वासकष्ट भी ठीक हो जाता है।
* अतिसारः अतिसार रोग में इसके फल को पानी में घिसकर पिलाने से हितकारी है।
* मसूरिका व रोमान्तिकाः मसूरिका व रोमान्तिका में प्रसार की स्थिति में रुद्राक्ष की माला धारण करने से इनसे बचाव रहता है और रोग की स्थिति में भी इनके दुश्परिणाम नहीं होते।
* मानसिक रोगः रुद्राक्ष मानसिक रोग, अपस्मार (मिर्गी), आक्षेपक, अपतंत्रक, अनिद्रा आदि में विशेष लाभकारी होता है। इनमें इसकी माला धारण करने से लाभ होता है।
* वृक्करोगः गुर्दे के रोगों में, हिपाटेमेगाली (लीवरवृद्धि) में और कामला (पीलिया) में रुद्राक्ष के पानी का सेवन लाभकारी होता है।
* उच्च रक्तचापः हाई ब्लड प्रेशर में एक रुद्राक्ष को एक गिलास पानी में भिगों दें और सुबह इसका जल पीने को देवें। यह प्रयोग निरंतर करते रहें। हाई बीपी में रुद्राक्ष की माला का धारण भी काफी असरकारी होता है।
* अन्य रोगों में ए़ड्‌स की प्रारंभिक अवस्था में, क्षय रोग में, रक्तपित्त, कासश्वास, प्रमेह रोग में भी यह अतीव उपयोगी है। यह परम रसायन है और अनेक रोगों से बचाव भी करता है।

रुद्राक्ष धारण का चिकित्सकीय महत्वः
शरीर में रुद्राक्ष धारण करने से रोमकूप के माध्यम से रक्त की कोशिकाओं द्वारा रक्तवाहिनी, शिरा एवं धमनियों पर इसका प्रभाव होता है। 
रुद्राक्ष की माला गले में पहनने से और इसके हृदय प्रदेश पर लगे रहने से संस्पर्श द्वारा यह हृदय को बल देती है, इससे रक्त की शुद्धि होती है और रक्त परिभ्रमण में दोष उत्पन्न होने पर इसके प्रभाव से नष्ट हो जाते है। इससे रक्तचाप सामान्य बना रहता है। यह ब़़ढे हुए रक्तचाप को नियंत्रित करता है। इसकी १०८ की माला या इसके पांच नग या केवल एक रुद्राक्ष के धारण से भी लाभ होता है। औषधी में इसके फल, बीज, भस्म, छाल व पत्तों का प्रयोग होता है। रुद्राक्ष के पत्तों का रस जठराग्नि को प्रदीप्त करता है, यह पौष्टिक तथा कामोद्धीपक होता है।

|| जय श्री कृष्ण ||
* बालकों का श्वासकष्टः बच्चों में कफ का अवरोध होने पर रुद्राक्ष का चूर्ण रत्ती की मात्रा में शहद में मिलाकर बारबार चटाने से आसानी से कफ निकलता है और श्वासकष्ट भी ठीक हो जाता है।
* अतिसारः अतिसार रोग में इसके फल को पानी में घिसकर पिलाने से हितकारी है।
* मसूरिका व रोमान्तिकाः मसूरिका व रोमान्तिका में प्रसार की स्थिति में रुद्राक्ष की माला धारण करने से इनसे बचाव रहता है और रोग की स्थिति में भी इनके दुश्परिणाम नहीं होते।
* मानसिक रोगः रुद्राक्ष मानसिक रोग, अपस्मार (मिर्गी), आक्षेपक, अपतंत्रक, अनिद्रा आदि में विशेष लाभकारी होता है। इनमें इसकी माला धारण करने से लाभ होता है।
* वृक्करोगः गुर्दे के रोगों में, हिपाटेमेगाली (लीवरवृद्धि) में और कामला (पीलिया) में रुद्राक्ष के पानी का सेवन लाभकारी होता है।
* उच्च रक्तचापः हाई ब्लड प्रेशर में एक रुद्राक्ष को एक गिलास पानी में भिगों दें और सुबह इसका जल पीने को देवें। यह प्रयोग निरंतर करते रहें। हाई बीपी में रुद्राक्ष की माला का धारण भी काफी असरकारी होता है।
* अन्य रोगों में ए़ड्‌स की प्रारंभिक अवस्था में, क्षय रोग में, रक्तपित्त, कासश्वास, प्रमेह रोग में भी यह अतीव उपयोगी है। यह परम रसायन है और अनेक रोगों से बचाव भी करता है।

रुद्राक्ष धारण का चिकित्सकीय महत्वः
शरीर में रुद्राक्ष धारण करने से रोमकूप के माध्यम से रक्त की कोशिकाओं द्वारा रक्तवाहिनी, शिरा एवं धमनियों पर इसका प्रभाव होता है। 
रुद्राक्ष की माला गले में पहनने से और इसके हृदय प्रदेश पर लगे रहने से संस्पर्श द्वारा यह हृदय को बल देती है, इससे रक्त की शुद्धि होती है और रक्त परिभ्रमण में दोष उत्पन्न होने पर इसके प्रभाव से नष्ट हो जाते है। इससे रक्तचाप सामान्य बना रहता है। यह ब़़ढे हुए रक्तचाप को नियंत्रित करता है। इसकी १०८ की माला या इसके पांच नग या केवल एक रुद्राक्ष के धारण से भी लाभ होता है। औषधी में इसके फल, बीज, भस्म, छाल व पत्तों का प्रयोग होता है। रुद्राक्ष के पत्तों का रस जठराग्नि को प्रदीप्त करता है, यह पौष्टिक तथा कामोद्धीपक होता है।

|| जय श्री कृष्ण ||

Wednesday, August 17, 2011

Human life is beset with ups and downs, joys and sorrows. These
experiences are intended to serve as guideposts for man. Life would be
bland without trials and tribulations. Problems in life bring out the
human values from within man. You cannot get the juice of the
sugarcane without crushing it; you cannot enhance the brilliance of a
diamond without cutting it and making many facets. One must shed
pettiness and develop broad-mindedness through the cultivation of
love. Only when you endure various difficulties, can you experience
the sweet bliss of Self-realization. Hence, difficulties must be
welcomed and overcome to experience Divinity.||Jai Sai Ram||
Human life is beset with ups and downs, joys and sorrows. These
experiences are intended to serve as guideposts for man. Life would be
bland without trials and tribulations. Problems in life bring out the
human values from within man. You cannot get the juice of the
sugarcane without crushing it; you cannot enhance the brilliance of a
diamond without cutting it and making many facets. One must shed
pettiness and develop broad-mindedness through the cultivation of
love. Only when you endure various difficulties, can you experience
the sweet bliss of Self-realization. Hence, difficulties must be
welcomed and overcome to experience Divinity.||Jai Sai Ram||

धुल हमें मिलती रहे

बड़े किस्मत बाले हे वो जिन्हें तेरी भक्ति मिली ,जो हमेशा तेरे नाम का
गुणगान करने का सतत प्रयास करते रहते हे और तेरी भक्ति करने से अपने जीवन
को धन्य मानते हे,.बाबा तेरी भक्ति .तो दूर तेरा नाम लेने मात्र से ही
लोगो का जीवन सफल हो जाता हे
बापू बस इतनी सी फ़रियाद हे मेरी
सदा आपके चरणों की धुल हमें मिलती रहे ..............

साईं का दर्शन

हे आँख वो जो साईं का दर्शन किया करे
हे शीश वो जो साईं के चरणों में बंदन किया करे
मुख वो हे जो साईं नाम का सुमरण किया करे
हीरे मोती से नहीं हे शोभा हे हाथ की
हाथ वो हे जो साईं का पूजन किया करे...
ॐ साईं आसाराम

मेरे गुरु देवा

भटका हुआ मेरा मन था कोई
मिल ना रहा था सहारा
लहरों से लड़ती हुई नाव को
जैसे मिल ना रहा हो किनारा, मिल ना रहा हो किनारा
उस लड़खड़ाती हुई नाव को जो
............किसी ने किनारा दिखाया
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है
मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे गुरु देवा ...

कैसे आऊं मै मोटेरा

ॐ गुरु राम
कैसे आऊं मै मोटेरा  में बापू मुझको अब तुम ही बतला दो
कोई तो रास्ता अब निकालोजो जल्दी से तेरे दर पे लाये
बहुत तरसी है आंखे ये अब तककब देखेंगी ये वो नजारा
 जब मुझको भी जन्नत के दर्शनतेरी मोटेरा में जा कर होंगे
मैंने हर पल तुझको ही चाहाफिर क्यूँ न सुना तुमने बाबा
क्या एक बेटे को अपने पिता सेमिलने को तड़पते ही रहना है
खबर तो तुम्हे भी ये होगीकोई रोता है तुम्हे याद कर के

Tuesday, August 16, 2011

BAKSHISH

OM GURU OM

YE KYA KAM HAI KI TUNE MUJE APNAYA HAI MAI TO KABIL NA THI BAPU TERI ISS BAKSHISH KE

TERI IK NAJAR HI KAFI HAI DUNIA KI OON LAKHO NAJRO SE JO HARPAL MUJE TUM APNI NIGAH ME HI RAKHTE HO

MERA YE HATH JABSE TUMNE THAAM LIYA BAPU MAI TO ZAMANE KI THOKARO SE BE AAB BACHNE LAGI

MERI TAKDEER KI LAKEERE BE NA KUCH BEEGAD SAKI JABSE MAI TERI SHARAN ME AA GAE BAPU

TUJSE JO JUD GAYA MERA RISHTA BAPU DUNIA KE SAB NAATE TUTE BE TO KOI GAM NAHI AAB

YE KYA KAM HAI KI TUNE MUJE APNAYA HAI MAI TO KABIL NA THI BAPU TERI ISS BAKSHISH KE...

Jai Shri Ram

!! Jai Shri Ram !!
Go into the dept of a Word. See his hidden meaning.
The quieter he becomes. A gentle man is ashamed that his words are better than his deeds.
Yet not only better than his deeds; but wiser than his meaning and better than his intentions.               

शब्दो नित्य: शब्दम ब्रह्मम !!!!
Atman, or the True "Self" - Swami Vivekananda
Here I stand and if I shut my eyes, and try to conceive my existence, "I", "I", "I", what is the idea before me? The idea of a body. Am I, then, nothing but a combination of material substances? The Vedas declare, "No". I am a spirit living in a body. I am not the body. The body will die, but I shall not die. Here am I in this body; it will fall, but I shall go on living. I had also a past. The soul was not created, for creation means a combination, which means a certain future dissolution. If then the soul was created, it must die.
Loka samasta sughino Bhavantu
!! Jai Shri Ram !!

Monday, August 15, 2011

तिलक

तिलक बिना लगाएं हिन्दू मान्यताओं के अनुसार कोई भी पूजा-प्रार्थना नहीं होती। सूने मस्तक को अशुभ माना जाता है। तिलक लगाते समय सिर पर हाथ रखना भी हमारी एक परंपरा है। लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि इसका कारण क्या है?

दरअसल धर्म शास्त्रों के अनुसार सूने मस्तक को अशुभ और असुरक्षित माना जाता है। तिलक लगाने के लिए अनामिका अंगुली शांति प्रदान करती है। मध्यमा अंगुली मनुष्य की आयु वृद्धि करती है। अंगूठा प्रभाव और ख्याति तथा आरोग्य प्रदान कराता है। इसीलिए राजतिलक अथवा विजय तिलक अंगूठे से ही करने की परंपरा रही है। तर्जनी मोक्ष देने वाली अंगुली है। ज्योतिष के अनुसार अनामिका तथा अंगूठा तिलक करने में सदा शुभ माने गए हैं। अनामिका सूर्य पर्वत की अधिष्ठाता अंगुली है। यह अंगुली सूर्य का प्रतिनिधित्व करती है, जिसका तात्पर्य यही है कि सूर्य के समान, दृढ़ता, तेजस्वी, प्रभाव, सम्मान, सूर्य जैसी निष्ठा-प्रतिष्ठा बनी रहे।

दूसरा अंगूठा है जो हाथ में शुक्र क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है। शुक्र ग्रह जीवन शक्ति का प्रतीक है। जीवन में सौम्यता, सुख-साधन तथा काम-शक्ति देने वाला शुक्र ही संसार का रचयिता है। माना जाता है कि जब अंगुली या अंगूठे से तिलक किया जाता है तो आज्ञा चक्र के साथ ही सहस्त्रार्थ चक्र पर ऊर्जा का प्रवाह होता है। सकारात्मक ऊर्जा हमारे शीर्ष चक्र पर एकत्र हो साथ ही हमारे विचार सकारात्मक हो व कार्यसिद्ध हो। इसीलिए तिलक लगावाते समय सिर पर हाथ जरूर रखना चाहिए

ऋग्वेद संहिता:----

॥॥ अथ प्रथमं मण्डलम् ॥॥ {ऋषि - मधुछन्दा वैश्वामित्र | देवता -अग्नि | छंद - गायत्री }

१, ॐ अग्निमीळे पुरोहितं यज्ञस्य देवमृत्विजम् । होतारं रत्नधातमम् ॥१॥
अर्थ:-हे अग्निदेव हम आपके उस रूप कि स्तुति करते है, जिस रूप से आप, मन्त्र वाचक ब्राह्मणों के द्वारा, यजमान के निमित किए जाने वाले यज्ञ से प्रशन्न होकर, होतारं अर्थात-होता, अथवा यजमान को, रत्नों ( धन-धान्य ) से भर देते हैं | हमारा आपको कोटि-कोटि नमन ॥१॥

२, अग्निः पूर्वेभिर्ऋषिभिरीड्यो नूतनैरुत् । स देवाँ एह वक्षति ॥२॥
अर्थ:- आप वही अग्नि देव हैं, जो पूर्व काल में भृगु, अंगिरा आदि ऋषियों द्वारा प्रशंसित हैं | और आधुनिक काल में भी वेदज्ञ विद्वानों द्वारा स्तुत्य हैं, अत: आपसे मेरी प्रार्थना है,कि मेरे सभी मित्रों, शत्रुओं, यजमानों और सगे-सम्बन्धियों के साथ विश्व कल्याण के निमित मेरे सुबह के यज्ञ में सभी देवों को बुलाएँ ॥२॥

३, अग्निना रयिमश्नवत् पोषमेव दिवेदिवे । यशसं वीरवत्तमम् ॥३॥
अर्थ:- हे अग्नि देव, आप सदा से ही हम ब्राह्मणों द्वारा स्तुति किए जाने पर, हमारे यजमानों, सगे-सम्बन्धियों, शत्रु-मित्र एवं सभी इष्ट मित्रों को, प्रतिदिन विवर्धमान( नित्य बढ़ने वाला ) धन, यश, पुत्र-पौत्र (कुल में वीर पुरुषों) को प्रदान करते आये हैं | अत: आज भी हम अपने उपरोक्त सभी लोगों के लिए इसी तरह के कल्याण कि याचना करते हैं, आप हमारी प्रार्थना सुनें ॥३॥

आज भी हम हमारे यहाँ यज्ञ, हवन, पूजा-पाठ करने किसी ब्राह्मण को बुलाते हैं, तो वो ब्राह्मण इन्हीं मन्त्रों को हमारे लिए उच्चारित करता है | जिन्हें न हम समझते हैं, और ना ही सभी कराने वाले ब्राह्मण |

अगर हम इन्हें समझ पाए तो कितनी ऊँची बात एक साधारण ब्राह्मण हमारे लिए बोलकर जाता है, जो शायद हम खुद हमारे लिए कभी नहीं बोल पाते |

एक ब्राह्मण में दुर्गुण कितने ही हो, हमारे लिए वो कल्याणकारी ही होता है ||||

Wednesday, August 10, 2011

स्त्री आदरणीय है

स्त्री आदरणीय है
संसार में हिन्दू धर्म ही ऐसा है जो ईश्वर या परमात्मा को स्त्रीवाचक शब्दों जैसे सरस्वती माता, दुर्गा माता, काली मैया, लक्ष्मी माता से भी संबोधित करता है । वही हमारा पिता है, वही हमारी माता है (त्वमेव माता च पिता त्वमेव) । हम कहते हैं राधे-कृष्ण, सीता-राम अर्थात् स्त्रीवाचक शब्द का प्रयोग पहले । भारतभूमि भारतमाता है । पशुओं में भी गाय गो माता है किन्तु बैल पिता नहीं है । हिन्दुओं में ‘ओम् जय जगदीश हरे’ या ‘ॐ नम: शिवाय’ का जितना उद्घोष होता है उतना ही ‘जय माता की’ का भी । स्त्रीत्व को अत्यधिक आदर प्रदान करना हिन्दू जीवन पद्धति के महत्त्वपूर्ण मूल्यों में से एक है । कहा गया है :-

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता: ।

यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राफला: क्रिया: ।

जहां पर स्त्रियों की पूजा होती है, वहां देवता रमते हैं । जहाँ उनकी पूजा नहीं होती, वहाँ सब काम निष्फल होते हैं ।

शोचन्ति जामयो यत्र विनश्यत्याशु तत्कुलम् ।

न शोचन्ति तु यत्रैता वर्धते तद्धि सर्वदा ।

जिस कुल में स्त्रियाँ दु:खी रहती हैं, वह जल्दी ही नष्ट हो जाता है । जहां वे दु:खी नहीं रहतीं, उस कुल की वृद्धि होती है ।

Sunday, August 7, 2011

आज के संदर्भ में

तुलसीदासः आज के संदर्भ में‘ - पुस्तक में युगेश्वर जी ने उचित ही कहा है कि राष्ट्र की भावात्मक एकता के लिए जिस उदात्त चरित्र की आवश्यकता है, वह रामकथा में है। मानस एक ऐसा वाग्द्वार है जहाँ समस्त भारतीय साधना और ज्ञान परम्परा प्रत्यक्ष दीख पडती है। दूसरी ओर देशकाल से परेशान, दुःखी और टूटे मनों का सहारा तथा संदेश देने की अद्भुत क्षमता है। आज भी करोडों मनों का यह सहारा है।
’रामचरितमानस‘ के संदेश को केवल भारत तक सीमित स्वीकृत करना इस महान् ग्रंथ के साथ अन्याय होगा। ’रामचरितमानस‘ युगवाणी है। विश्व का एक ऐसा विशिष्ट महाकाव्य जो आधुनिक काल में भी ऊर्ध्वगामी जीवनदृष्टि एवं व्यवहारधर्म तथा विश्वधर्म का पैगाम देता है। ’रामचरितमानस‘ अनुभवजन्य ज्ञान का ’अमरकोश‘ है।
आज का युग विज्ञान का युग है। विज्ञान ’क्या है‘ यह तो बता सकता है, यह किन्तु ’क्या होना चाहिए‘ और क्यों होना चाहिए‘ इस प्रकार के प्रश्नों को नहीं छूता। मानवजीवन के मूल्यों का विचार न कभी विज्ञान ने किया है न करेगा। विज्ञान केवल ज्ञेय वस्तु तक ही सीमित है।
वैज्ञानिक प्रगति ने आज के मानव जीवन को ’सुखी‘ बनाया है, किन्तु ’प्रसन्न‘ बनाया है ? खाने-पीने, रहने-सोने, उठने-बैठने जैसी साधारण-सी बातों को लेकर समस्याएँ पैदा हो रही हैं। भौतिकवाद ने मनुष्य को आत्मकेन्द्री बनाया है। त्याग के स्थान पर ’परिग्रह‘ का महत्त्व अत्र-तत्र-सर्वत्र दृष्टिगत होता है। इसका मूल कारण है अध्यात्म की विस्मृति अर्थात् मानवजीवन के शाश्वत मूल्यों की उपेक्षा। कवि भर्तृहरि के शब्दों में कहें तो मनुष्य भोगों को नहीं भोग रहा, भोग मनुष्यों का उपभोग कर रहे हैं। इस विकट परिस्थितियों का उपाय है निर्मल, तपोद्दीप्त एवं त्यागपूर्ण जीवनदृष्टि। आज ’कामराज्य‘, ’दामराज्य‘ और ’जामराज्य‘ (मद्यपान) ने मनुष्य जीवन को बुरी तरह घेर लिया है। विश्वबंधुत्व की भावना की विस्मृति विश्व को भयग्रस्त बना रही है।
’तुलसी के हिय हेरि‘ में तुलसी-साहित्य के मर्मज्ञ स्व. विष्णुकान्त शास्त्री जी ने ’आधुनिकता की चुनौती और तुलसीदास‘ शीर्षक अध्याय में कहा है कि तुलसीदास की विचारधारा का विपुलांश आज भी वरणीय है। श्रीराम सगुण या निर्गुण ब्रह्म, अवतार, विश्वरूप, चराचर व्यक्त जगत् या चाम मूल्यों की समष्टि और स्रोत-उन का जो भी रूप आप को ग्राह्य हो) के प्रति समर्पित, सेवाप्रधान, परहित निरत, आधि-व्याधि-उपाधि रहित जीवन, मन, वाणी और कर्म की एकता, उदार, परमत सहिष्णु, सत्यनिष्ठ, समन्वयी दृष्टि, अन्याय के प्रतिरोध के लिए वज्र - कठोर, प्रेम-करुणा के लिए कुसुम कोमल चित्त, गिरे हुए को उठाने और आगे बढने की प्रेरणा और आश्वासन, भोग की तुलना में तप को प्रधानता देने वाला विवेकपूर्ण संयत आचरण, दारिद्रय मुक्त, सुखी, सुशिक्षित, समृद्ध समतायुक्त समाज, साधुमत और लोकमत का समादर करनेवाला प्रजाहितैषी शासन-संक्षेप में यही आदर्श प्रस्तुत किया है, तुलसी की ’मंगल करनि, कलिमल हरनि‘-वाणी ने। क्या आधुनिकता इस को खारिज कर सकती है

Saturday, July 30, 2011

आँखे बंद रहती है

मेरा हर एक आँसू बापू तुझे ही पुकारे
मेरी पहुँच तुझ तक सिर्फ आँसुओं के सहारे
जब आप की याद सांई सही न जाए
आप को सामने न पा कर दिल मेरा घबराए
तब ज़ुबा, हाथ , पांव सब बेबस होते है
इन्ही का काम बापू आँसू कर देते है
ये आप तक तो नहीं पहुँते पर फिर भी
इस तङप को कुछ शांत कर देते है
जब तक ये बहते है सांई आँखे बंद रहती है
बंद आँखे ही बापू मुझे आप से मिलाती है
बह बह कर बापू जब ये आंसू थक जाते है......,....
कुछ समय सांस लेने खुद ही रूक जाते है,
पर आप की याद कभी नहीं थकती है,
बिना रूके सदा मेरी सांसों के साथ ही चलती है
मुझे मंज़ूर है ये सौदा आप यूँ ही याद आते रहिए
आँसूओं के सहारे ही सही मेरे नैनों में समाते रहिए

Thursday, July 28, 2011

साधू कौन??


सामान्यतया भारत देश मे हर लाल कपडे पहने व्यक्ति को साधु कहा जाता है, दाढी बढी हो, लगोंट लगाकर घूम रहे हों, अन्य कोई विचित्र वेष हो जटाधारी हो या त्रिपुण्ड या उर्ध्वपुण्ड धारण किये हो साधु महात्मा बाबा जी सन्त आदि शब्दों से विभूषित हो जाता है पर क्या वो साधु हैं?किसको साधु कहें किसको न कहें कहा गया है! ना जाने किस वेश मे नारायण मिल जाये पर आखिर कैसे पहचान हो कि साधू है या असाधु!!

साधु वह है जो अन्तः स्वरूप बाह्यस्वरूप के सापेक्ष नहीं होते! वे किसी भी बाह्या मे हो सकतें हैं! लेकिन उनका अन्तःकरण अमित बोध वाला होता है! साधु ईश्वर के प्रति जिज्ञासा रखने वाला होता है! साधु शीलवान है अर्थात वह शील स्वभाव सदा प्रसन्न रहने वाला होता है!! साधु ईश्वर के द्वारा प्रदत्त प्रारब्ध के अनुसार प्राप्त वस्तुओं मे ही सन्तुष्ट रहने वाला श्री हरि के अहैतुकी कॄपा का स्मरण करके सदा आनन्द मग्न रहता है!! जो इन लक्षणों से वियुक्त हो कर आशा तॄष्णा आदि के चक्कर मे पड कर ईश्वर को भूल जाता है वह सांसारिक आध्यात्मिक सम्पदा से रहित अकिञ्चन धन दौलत पुत्र स्त्री आदि मकान घर गाडी आदि भौतिक पदार्थों मे आसक्त हो व्याकुल हो जाता है! इसलिये ईश्वर से दूर हो जाता है! वही सांसारिक है!! वैराग्य शतक मे भतृहरी ने कहा है! -

आशानाम नदी मनोरथजला तृष्णातरंगाकुला रागग्राहवती वितर्कविहगा धैर्यद्रुमध्वन्सिनी!!
मोहावर्तसुदुस्तरातिगहना प्रोतुंगचिन्तातटी तस्या पारगता विशुद्ध मनसो नन्दति योगीश्वराः!!


भर्तृहरि ने व्यक्ति की आशाओं की तुलना नदी से कर के बहुत सुन्दर उदाहरण दिया है कहते हैं कि आशा नामक एक नदी जो मनोरथ के जल से परिपूर्ण है जिसमे तृष्णा(लालच) रुपी तरंग से व्याकुल रहती है! उसमे राग(प्रेम) रूपी ग्राह का निवास है! तर्क वितर्क रूपी जलीय पक्षी उसमे निवास करते हैं उसमे उठनेवाली तृष्णा रूपी तरंग उसके किनारों पर स्थित धैर्यरूपी वॄक्ष को उखाड कर गिरा देते हैं! मोहरूपी भंवर इस नदी मे है और ये नदी बहुत ही गहरी है! इस नदी के चिन्ता रूपी तट इतने उंचे हैं कि उसको पार करना मुश्किल हो जाता है! लेकिन उसको कौन पार कर सकता है तो वो योगीश्वर इसको पार कर सकते हैं जो विशुद्ध मन वाले होते है! जिसको षड उर्मियां नही सताती जिसके कोई इच्छा नही जिसके कोई संकल्प नही ऐसे लोग सहज भाव से आशा नाम नदी को पार कर आनन्द या परम सुख प्राप्त कर लेते हैं इसके विपरीत जो इसमे फ़ंसा रहगया वो पीडित होता है! ऐसे पीडित को कभी साधू नही कहा जाता ऐसे तो सामान्य सांसारिक लोग होते हैं जिनके मन मे हो कि वो धन स्त्री ब्रह्मलोक, राजऐश्वर्य की चाहत होती है!!

अतः सद्भक्त हो, सबका भला चाहे! किसी से प्रेम, ईष्या या द्वेष न हो, सम्पत्ति का मोह, पारिवारिक मोह न हो जिसके लिये माटी और सोने मे अन्तर न हो! वह साधु है चाहे वो कैसा भी वस्त्र पहने या उसका कोई भी रूप मे क्यों न हो!!

Wednesday, July 27, 2011

कृष्ण प्यारे

सुनो टेर मेरी, अहो कृष्ण प्यारे
कनक पाट खोलो, हैं द्वारे पे आये
सुना है पतितों को पावन बनाते
सुना है कि दुखियों को हृदय से लगाते
यही आस ले दासी द्वारे पे आई
सुनो टेर मेरी, अहो कृष्ण प्यारे
कनक पाट खोलो, हैं द्वारे पे आये
सुना हमनें मुरली की है तान प्यारी
सुना है कि मोहनी मूरत तुम्हारी
दरश दीजिये हमको बांके बिहारी
सुनो टेर मेरी, अहो कृष्ण प्यारे
कनक पाट खोलो, हैं द्वारे पे आये
सुना है कि गोपिन से माखन चुराते
सुना है कि नित बन में रास रचाते
यही ढूंढते हैं ये लोचन हमारे
सुनो टेर मेरी, अहो कृष्ण प्यारे
कनक पाट खोलो, हैं द्वारे पे आये

विचार किया

क्या आपने कभी विचार किया है कि राह चलते कोई वाहन टक्कर देकर किसी गाय को घायल कर देता है तो उस गाय का क्या होगा ? अतीत में जो गाय हमारे घर की सर्वे-सर्वा थी आज वह तड़प-तड़प् कर मरने को लाचार है। आये दिन देखते हैं कि गोवंश जगह-जगह दुर्घटनाग्रस्त कर दिया जाता है। लोग एकत्रित होते हैं और तमाशा देखते हैं लेकिन पूरे देश में 10-20 स्थानों को छोड़कर कोई ऐसी व्यवस्था नही है जहाँ ऐसे गोवंश का इलाज किया जा सके एवं जब तक चलने फिरने योग्य न हो तब तक उसकी सेवा की जा सके। हमें महीने में तीन-चार बार ऐसी दुर्घटनाओं से रूबरू होना पड़ता है। आज ही शाम को पाँच बजे एक रोडवेज की बस ने गाय को टक्कर देकर बुरी तरह जख्मी कर दिया। जालोर में उसकी सेवा हेतु कोई व्यवस्था नहीं होने से गाड़ी में डालकर 150 किमी दूर श्री गोधाम पथमेड़ा भेजना पड़ता है। घायल अवस्था में 5 घण्टें का दर्द और पीड़ा भरा सफर, कैसे सहन कर पाती है गोमाता वो ही जाने। सांय 7 बजे जालोर से रवाना की गई गाड़ी अब पहुँचने वाली है श्री गोधाम पथमेड़ा।पूरे देश में गोसेवा के क्षेत्र में ऐसे करीब 15000 केन्द्रों की अंवश्यकता है।
फेस बुक के माध्यम से देश के धर्मातमाओं तक यह अपील पहुँचाना चाहता हूँ कि वे ऐसे केन्द्रों की स्थापना का पुण्य कार्य करे। देश के साधु समाज से अपील करता हूँ कि वे ऐसे केन्द्रों को चलाने में आगे आयें।

धर्म

सनातन धर्म क्या है?
‘‘कृत्य च प्रति कर्तव्यम् ऐश धर्मः सनातनः’’
जिस किसी ने भी हमारे प्रति उपकार किया है उस उपकारी के प्रति सदा-सर्वदा हृदय से कृतघ्न रहना यही है सनातन धर्म। इस परिभाषा मंे हमारा सम्पूर्ण सनातन धर्म आ गया।
गाय के मनुष्य के ऊपर सबसे अधिक उपकार है। अतः हमें गोमाता के उपकार को कभी नहीं भूलना चाहिये

Monday, July 25, 2011

तेरा नाम

ह्रदय से जपूँ तेरा नाम~
ब्रम्हानंद हे सुखधाम~
पूर्ण रूप साईं निष्काम~

मेरे मन में करना विश्राम~
अपने भक्तों का तूं रखवाला~आनन्द का है तूं धाम~
तेरी शरण में मैं हूँ आयI ,निज चरणों में देदों स्थान~

Saturday, July 23, 2011

समर्थ है

जाऊ न मै किसी मदिर में,
न जाऊ किसी के द्वार,
गुरु जब मेरा समर्थ है,
गुरु है मेरा पालनहार,मै भिखारी गुरु के आगे,
दया की भीख मांगता हूँ,
भीख के एक टुकड़े से,
भरपेट जी लेता हूँ,
मेरा स्वर्ग है गुरुद्वार,
गुरु है मेरा पालनहार,गंगाजल न पियूँ गुरु के,



चरण धो धो कर पीयू,
चरण धुली को देह में लगाकर,
जन्मो के पाप मिटाॐ,
इसी से होगा मेरा उदार,
गुरु है मेरा पालनहार,
बापू के जैसा न कोई सहारा देखा,
बापू के भक्तों जैसा न कोई प्यारा देखा,
कहीं और जाने की तमन्ना भी क्यूँ हो?
जब मोटेरा में ही जन्नत का नज़ारा देखा 

omom

जब आप अपनी खुशी के बारे में सोचते हैं, दूसरों को खुशियां देने के विषय में भी सोचें| इसका अर्थ यह नहीं है कि आप् संसार के लिए सब कुछ छोड दें|
यह असंभव है|लेकिन तुम्हें दूसरों के लिए सोचना अवश्य चाहिए|
बापू तेरी लीला कभी समझ ना पाऊ मैं तेरे चरणों में सदा शीश झुकाओ मैं

Wednesday, July 20, 2011

चाणक्य की सीख.................

चाणक्य की सीख.................

चाणक्य एक जंगल में झोपड़ी बनाकर रहते थे। वहां अनेक लोग उनसे परामर्श और ज्ञान प्राप्त करने के लिए आते थे। जिस जंगल में वह रहते थे, वह पत्थरों और कंटीली झाडि़यों से भरा था। चूंकि उस समय प्राय: नंगे पैर रहने का ही चलन था, इसलिए उनके निवास तक पहुंचने में लोगों को अनेक कष्टों का सामना करना पड़ता था। वहां पहुंचते-पहुंचते लोगों के पांव लहूलुहान हो जाते थे।

एक दिन कुछ लोग उस मार्ग से बेहद परेशानियों का सामना कर चाणक्य तक पहुंचे। एक व्यक्ति उनसे निवेदन करते हुए बोला, ‘आपके पास पहुंचने में हम लोगों को बहुत कष्ट हुआ। आप महाराज से कहकर यहां की जमीन को चमड़े से ढकवाने की व्यवस्था करा दें। इससे लोगों को आराम होगा।’ उसकी बात सुनकर चाणक्य मुस्कराते हुए बोले, ‘महाशय, केवल यहीं चमड़ा बिछाने से समस्या हल नहीं होगी। कंटीले व पथरीले पथ तो इस विश्व में अनगिनत हैं। ऐसे में पूरे विश्व में चमड़ा बिछवाना तो असंभव है। हां, यदि आप लोग चमड़े द्वारा अपने पैरों को सुरक्षित कर लें तो अवश्य ही पथरीले पथ व कंटीली झाडि़यों के प्रकोप से बच सकते हैं।’ वह व्यक्ति सिर झुकाकर बोला, ‘हां गुरुजी, मैं अब ऐसा ही करूंगा।’

इसके बाद चाणक्य बोले, ‘देखो, मेरी इस बात के पीछे भी गहरा सार है। दूसरों को सुधारने के बजाय खुद को सुधारो। इससे तुम अपने कार्य में विजय अवश्य हासिल कर लोगे। दुनिया को नसीहत देने वाला कुछ नहीं कर पाता जबकि उसका स्वयं पालन करने वाला कामयाबी की बुलंदियों तक पहुंच जाता है।’ इस बात से सभी सहमत हो गए।

साधक

संतों का यह अनुभव है कि किसी भी मार्ग पर चलने वाला साधक हो, यदि वह गो सेवा में लग जाता है तो उसको साध्य की प्राप्ति अति सहज हो जाती है। कारण यह है कि इस समय गोवंश पर आये संकट के कारण भगवान और संतों ने आपना आशीर्वाद गोसेवा रूपी साधन के साथ जोड़ दिया है। और वैसे भी ‘गो’ कल्याण को देने वाली है। इस प्रकार गोसेवा रूपी साधन में दोहरी कृपा बरस रही है, बस अपना कटोरा सीधा रखने की बात है।

गुरु

श्रीमान विक्की रावनजी का एक प्रश्न आपके सन्मुख रख रहा हु...आप गुरु और देवतामें क्या अंतर मानते है ..??

"यो देव: सा देवता" ऐश्वर्यशाली चेतनशक्तिको ही देवता कहते है ! दुसरे और आसान शब्दोंमें कहे तो "ददाति ह्वासो ऐश्वर्याणी" जो ऐश्वर्य प्रदान करे, वही देवता है ! तेजोमय होनेके कारण यह दुसरोको प्रकाशित करते है !

"गोप रुपें जायते इति गुरु" गुरु तत्व शरीर नहीं प्रकाश है !जिसने इन्द्रियोंको अपने वशमें करके रोम रोममें गोविन्दको बसा रखा है उसीका नाम गुरु है ! जो अज्ञान रूपी अन्धकारको निकालके प्रकाश रूपी इश्वरका साक्षात्कार करवा दे उसीका नाम गुरु है !....श्री राधेश्याम...हरि हरः

Sunday, July 17, 2011

मानव

मानव प्रकृति की सर्वश्रेष्ठ रचना है क्योंकि वही एक ऐसा प्राणी है, जो बुद्धि-विवेक से युक्त है एवं ज्ञान प्राप्त करने योग्य है। ‘श्रीमद्भागवत’ में उल्लेख है कि जगत्पिता ब्रह्मा सृष्टि-रचना काल में जब अत्यधिक प्रसन्न हुए, तब समग्र सृष्टि के निर्माण के अन्त में अपने श्रेष्ठतम युवराज के रूप में अपने मन की सत्ता से अर्थात मनः शक्ति से विश्व की अभिवृद्धि करने वाले मनुओं की रचना कर उन्हें अपना वह पुरुषाकार शरीर दे दिया (स्वीयं पुरं पुरुषं)। इससे पूर्व अन्य उत्पन्न देव, गंधर्वादि ने हर्षपूर्वक ब्रह्माजी को प्रणाम करते हुए कहा, ‘‘देव आपकी यह रचना सर्वश्रेष्ठ है। इससे श्रेष्ठ रचना और नहीं हो सकती। इस नर देह में प्राणियों के अभ्युदय तथा निःश्रेयस के समस्त साधन विद्यमान हैं। अतः इसके द्वारा हम सभी देवता भी अपनी छवि ग्रहण कर संतुष्ट हुआ करेंगे।’’ भाव यह है कि यह मानवी काया सुरदुर्लभ है। देवता भी इसे श्रेष्ठ मानते हुए उसके माध्यम से सिद्धियाँ हस्तगत करने की कामना किया करते हैं।

Thursday, July 14, 2011

महामानव

महामानव - श्री चैतन्यमहाप्रभु एकबार भगवान श्री जगन्नाथ जी के दर्शन करके दक्षिण भारत की यात्रा करने निकले थे । उन्होने एक स्थान पर देखा कि सरोवर के किनारे एक ब्राह्मणदेवता भाव विभोर होकर श्रीभगवद्गीता का पाठ कर रहा है । पाठ करते समय उस ब्राह्मणदेव के आँखोँ से अश्रुधारा बह रही थी । महाप्रभु श्रीचैतन्य चुपचाप उस ब्राह्मणदेव के पीछे खड़े हो गये और जब तक उस ब्राह्मण का पाठ चलता रहा वे शान्त खड़े रहे ।
पाठ समाप्त करके जब उस बाह्मण ने श्री गीता जी की पुस्तक बन्द की , महाप्रभु जी ने सामने आकर ब्राह्मण से पुछा , ब्राह्मण देवता । लगता है आप संस्कृत नहीँ जानते , क्योँकि श्लोकोँ का उच्चारण आपका सही नहीँ हो रहा था । पर , गीता का ऐसा कौन - सा अर्थ आप समझते हैँ कि जिसके सुख मेँ आप इतने भावविभोर हो रहे थे ।
अपने सामने एक भव्य व्यक्तित्ववाले महापुरुष को देखकर ब्राह्मण ने उन्हे दण्डवत - प्रणाम किया । फिर हाथ जोड़ कर विनम्रतापूर्वक बोला , भगवन् । मैँ संस्कृत क्या जानूं और गीता का मुझे क पता ! मुझे पाठ करना आता नहीँ । मैँ तो जब इस ग्रन्थ को पढ़ने बैठता हूँ , तब मुझे लगता है कि कुरुक्षेत्र के मैदान मेँ दोनोँ ओर बड़ी भारी सेना सजी खड़ी है । दोनोँ सेनाओँ के मध्य एक रथ खड़ा है चार घोड़ोवाला । रथ के भीतर अर्जुन दोनोँ हाथ जोड़े बैठा है और रथ के आगे घोड़ो की रास पकड़े भगवान् श्री यशोदानन्दन श्रीकृष्ण बैठे हैँ । भगवान् श्रीयशोदानन्दन श्रीकृष्ण मुख पीछे घुमाकर अर्जुन से कुछ कह रहे हैँ , मुझे यह स्पष्ट दीखता है । भगवान् और अर्जुन की ओर देखकर मुझे प्रेम से रुलाई आ रही है । महाप्रभु ने कहा , - मेरे भैया । तुम्हीँ ने गीता का , जो चारवेदोँ और समस्त शास्त्रोँ का सार है , उसका सच्चा अर्थ तुम्हीँ ने जाना है । और गीता जी का पाठ करना तुम्हेँ आता है । तुम्हेँ सब प्राप्त हो गया । तु तत्त्वज्ञ है ।
श्री नारायण हरिः ।

मंत्र ध्वनि

मंत्र ध्वनि-विज्ञान का सूक्ष्मतम विज्ञान है मंत्र-शरीर के अन्दर से सूक्ष्म ध्वनि को विशिष्ट तरंगों में बदल कर ब्रह्मांड में प्रवाहित करने की क्रिया है जिससे बड़े-बड़े कार्य किये जा सकते हैं... प्रत्येक अक्षर का विशेष महत्व और विशेष अर्थ होता है.. प्रत्येक अक्षर के उच्चारण में चाहे वो वाचिक,उपांसू या मानसिक हो विशेष प्रकार की ध्वनि निकलती है तथा शरीर में एवं विशेष अंगो नाड़ियों में विशेष प्रकार का कम्पन(VIBRATION) पैदा करती हैं जिससे शरीर से विशेष प्रकार की ध्वनि तरंगे निकलती है जो वातावरण-आकाशीय तरंगो से संयोग करके विशेष प्रकार की क्रिया करती हैं...विभिन्न अक्षर (स्वर-व्यंजन) एक प्रकार के बीज मंत्र हैं.. विभिन्न अक्षरों के संयोग से विशेष बीज मंत्र तैयार होते है जो एक विशेष प्रकार का प्रभाव डालते हैं, परन्तु जैसे अंकुर उत्पन्न करने में समर्थ सारी शक्ति अपने में रखते हुये भी धान,जौ,गेहूँ अदि संस्कार के अभाव में अंकुर उत्पन्न नहीं कर सकते वैसे ही मंत्र-यज्ञ आदि कर्म भी सम्पूर्ण फलजनित शक्ति से सम्पन्न होने पर भी यदि ठीक-ठीक से अनुष्ठित न किये जाय तो कदापि फलोत्पादक नहीं होते हैं...
घर्षण के नियमों से सभी लोग भलीभातिं परिचित होगें.. घर्षण से ऊर्जा(HEAT , ELECTRICITY) आदि पैदा होती है.. मंत्रों के जप से भी श्वास के शरीर में आवागमन से तथा विशेष अक्षरों के अनुसार विशेष स्थानों की नाड़ियों में कम्पन(घर्षण) पैदा होने से विशेष प्रकार का विद्युत प्रवाह(MICROELEVTRICITYCURRENT​) पैदा होता है, जो साधक के ध्यान लगाने से एकत्रित होता है ..तथा मंत्रों के अर्थ (साधक को अर्थ ध्यान रखते हुए उसी भाव से ध्यान एकाग्र करना आवश्यक होता है) के आधार पर ब्रह्मांड में उपस्थित अपने ही अनुकूल उर्जा से संपर्क करके तदानुसार प्रभाव पैदा होता है .. रेडियो,टी०वी० या अन्य विद्युत उपकरणों में आजकल रिमोट कन्ट्रोल का सामान्य रूप से प्रयोग देखा जा सकता है.. इसका सिद्धान्त भी वही है.. मंत्रों के जप से निकलने वाली सूक्ष्म उर्जा भी ब्रह्मांड की उर्जा से संयोंग करके वातावरण पर बिशेष प्रभाव डालती है... हमारे ऋषि-मुनियों ने दीर्घकाल तक अक्षरों,मत्राओं, स्वरों पर अध्ययन प्रयोग, अनुसंधान करके उनकी शक्तियों को पहचाना जिनका वर्णन वेदों में किया है.. इन्ही मंत्र शक्तियों से आश्चर्यजनक कार्य होते हैं, जो अविश्वसनीय से लगते हैं,यद्यपि समय एवं सभ्यता तथा सांस्कृतिक बदलाव के कारण उनके वर्णनों में कुछ अपभ्रंस शामिल हो जाने के वावजूद भी उनमें अभी भी काफी वैज्ञानिक अंश ऊपलब्ध है, बस थोड़ा सा उनके वास्तविक सन्दर्भ को दृष्टिगत रखते हुए प्रयोग करके प्रमाणित करने की आवश्यकता है...
पदार्थ जगत में विस्फोट होता है.. उर्जा की प्राप्ति के लिये पदार्थ को तोड़ना पड़ता है, परन्तु चेतना जगत में मंत्र एवं मात्रिकाओं का स्फोट किया जाता है ..शारीरिक रोग उत्पन्न होने का कारण भी यही है कि जैव-विद्युत के चक्र का अव्यवस्थित हो जाना या जैव-विद्युत की लयबद्धता का लड़खड़ा जाना ही रोग की अवस्था है.. जब हमारे शरीर में उर्जा का स्तर निम्न हो जाता है तब अकर्मण्यता आती है..मंत्र जप के माध्यम से ब्रह्मांडीय उर्जा-प्रवाह को ग्रहण करके अपने शरीर के अन्दर की उर्जा का स्तर ऊचा उठाया जा सकता है और अकर्मण्यता को उत्साह में बदला जा सकता है... चुकि संसार के प्राणी एवं पदार्थ सब एक ही महान चेतना के अंशधर है,इसलिये मन में उठे संकल्प का परिपालन पदार्थ चेतना आसानी से करने लगती है.. जब संकल्प शक्ति क्रियान्वित होती है तो फिर इच्छानुसार प्रभाव एवं परिवर्तन भी आरम्भ हो जाता है..मंत्र साधना से मन, बुद्धि, चित अहंकार में असाधारण परिवर्तन होता हे.. विवेक, दूरदर्शिता, तत्वज्ञान और बुद्धि के विशेष रूप से उत्पन्न होने के कारण अनेक अज्ञान जन्य दुखों का निवारण हो जाता है......वैज्ञानिक परिभाषा में हम इसे इस प्रकार कह सकते हैं.की ...मंत्र विज्ञान का सच यही है कि यह वाणी की ध्वनि के विद्युत रूपान्तरण की अनोखी विधि है... हमारा जीवन,हमारा शरीर और सम्पूर्ण ब्रह्मांण जिस उर्जा के सहारे काम करता है,उसके सभी रूप प्रकारान्तर में विद्युत के ही विविध रूप हैं.. मंत्र-विद्या में प्रयोग होने वाले अक्षरों की ध्वनि (उच्चारण की प्रकृति अक्षरों का दीर्घ या अर्धाक्षर, विराम, अर्धविराम आदि मात्राओं) इनके सूक्ष्म अंतर प्रत्यन्तर मंत्र-विद्या के अन्तर-प्रत्यन्तरों के अनुरूप ही प्रभावित व परिवर्तित किये जा सकते हैं.. मंत्र-विज्ञान के अक्षर जो मनुष्य की वाणी की ध्वनि जो शरीर की विभिन्न नाड़ियों के कम्पन से पैदा होते हैं तथा जो कि मानव के ध्यान एवं भाव के संयोग से ही विशेष प्रकार कि विद्युत धारा उत्पन्न करते हैं वही जैव-विद्युत आन्तरिक या बाह्य वातावरण को अपने अनुसार ही प्रभावित करके परिणाम उत्पन्न करती है..

Monday, July 11, 2011

आत्मसाक्षात्कार

आत्मसाक्षात्कार का पूर्णतया संपादन करनेवाला ही ब्राह्मण होता है... यह आत्मा ही लोक, परलोक और समस्त प्राणियों को भीतर से नियमित करता है... सूर्य, चंद्रमा, पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि, तारागण, अंतरिक्ष, आकाश एवं प्रत्येक क्षण इस आत्मा के ही प्रशासन में हैं.. यह तुम्हारा आत्मा अंतर्यामी अमृत है.. आत्मा अक्षर है, इससे भिन्न सब नाशवान् हैं.. जो कोई इसी लोक में इस अक्षर को न जानकर हवन करता है, तप करता है, हजारों वर्षों तक यज्ञ करता है, उसका यह सब कर्म नाशवान् है... जो कोई भी इस अक्षर को जाने बिना इस लोक से मरकर जाता है वह दयनीय है, कृपण है और जो इस अक्षर को जानकर इस लोक से मरकर जाता है वह ब्राह्मण है......
गुणातीतो अक्षर ब्रह्म भगवान पुरुषोत्तमः , जानो ज्ञान्मिदम सत्यम मुच्च्य्ते भाव बन्धनात .
सदा सदा बापू  पिता ,मन में करो निवास,
सच्चे ह्रदय से करू, तुम से यह अरदास,
कारण करता आप हो,सब कुछ तुमरी दात,
साईं भरोसे मैं रहू , तुम्ही हो पितु मातु,
विषयों में मैं लीन हूँ , पापो का नहीं अंत,
फिर भी तेरा तेरा हूँ, रख लियो भगवंत,
रख लियो हे राखन-हारा,साईं गरीब निवाज,
तुझ बिन तेरे बालक के कौन सवारे काज,
दया करो दया करो, दया करो मेरे साईं,
तुझ बिन मेरा कौन है,बापू  इस जग माही,
मैं तो कुछ भी हु नहीं,सब कुछ तुम हो नाथ,
बच्चों के सर्वस प्रभु,तुम सदा हो मेरे साथ

GURU POONAM

Walking in BAPU'S path is difficult bcoz the HOLY PATH of GURUJEE is very PURE and full of TRUTH......so Left all OUR negativity and WRONG works......and start Walking in BAPU'S path of truth bcoz....... Truth is like surgery...... It may hurt..... but it cures.....And Lie and Negativity is like pain Killers........ It gives relief at that point of time..... but has side effects later...........BAPU'S door is open for ALL of US ALWAYSSSSSSSS.........SO choice is up to us........HAVE A LOVELY DAY TO ALL HAPPY GURU POONAM

http://www.youtube.com/watch?v=CXpBV8PImu8

हिन्दू दर्शन

ब्रह्म हिन्दू दर्शन में इस सारे विश्व का परम सत्य है और जगत का सार है ... वो ब्रह्माण्ड की आत्मा है .. वो ब्रह्माण्ड का कारण है, जिससे ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति होती है , जिसमें ब्रह्माण्ड आधारित होता है और अन्त मे जिसमें विलीन हो जाता है ..वो अद्वितीय है ..वो स्वयं ही परमज्ञान है, और प्रकाश-स्त्रोत है ... वो निराकार, अनन्त, नित्य और शाश्वत है ... ब्रह्म सर्वशक्तिमान और सर्वव्यापी है...
परब्रह्म :- परब्रह्म या परम-ब्रह्म ब्रह्म का वो रूप है, जो निर्गुण और असीम है ... "नेति-नेति" करके इसके गुणों का खण्डन किया गया है, पर ये असल मे अनन्त सत्य, अनन्त चित और अनन्त आनन्द है .. अद्वैत वेदान्त में उसे ही परमात्मा कहा गया है, ब्रह् ही सत्य है,बाकि सब मिथ्या है... 'ब्रह्म सत्यम जगन मिथ्या,जिवो ब्रम्हैव ना परः ,वह ब्रह्म ही जगत का नियन्ता है...
अपरब्रह्म:- अपरब्रह्म ब्रह्म का वो रूप है, जिसमें अनन्त शुभ गुण हैं ... वो पूजा का विषय है, इसलिये उसे ही ईश्वर माना जाता है .. अद्वैत वेदान्त के मुताबिक ब्रह्म को जब इंसान मन और बुद्धि से जानने की कोशिश करता है, तो ब्रह्म माया की वजह से ईश्वर हो जाता है .....ब्रह्माण्ड का जो भी स्वरूप है वही ब्रह्म का रूप या है ..वह अनादि है, अनन्त है जिस तरह प्राण का शरीर में निवास है वैसे ही ब्रह्म का शरीर यानि ब्रह्माण्ड में निवास है ... वह कण-कण में व्याप्त है, अक्षर है, अविनाशी है, अगम है, अगोचर है, शाश्वत है , सत्य है ...ब्रह्म के प्रकट होने के चार स्तर हैं - ब्रह्म , ईश्वर, हिरण्यगर्भ एवं विराट ... भौतिक संसार विराट है, बुद्धि का संसार हिरण्यगर्भ है, मन का संसार ईश्वर है तथा सर्वव्यापी चेतना का संसार ब्रह्म है ... ‘सत्यं ज्ञानमनन्तं ब्रह्म’:- ब्रह्म सत्य और अनन्त ज्ञान-स्वरूप है ... इस विश्वातीत रूप में वह उपाधियों से रहित होकर निर्गुण ब्रह्म या परब्रह्म परमात्मा कहलाता है ... जब हम जगत् को सत्य मानकर ब्रह्म को सृष्टिकर्ता, पालक, संहारक, सर्वज्ञ आदि उपाधियों से संबोधित करते हैं तो वह सगुण ब्रह्म या ईश्वर कहलाता है .. इसी विश्वगत रूप में वह उपास्य है ... ब्रह्म के व्यक्त स्वरूप (माया या सृष्टि) में बीजावस्था को हिरण्यगर्भ अर्थात सूत्रात्मा कहते हैं .. आधार ब्रह्म के इस रूप का अर्थ है सकल सूक्ष्म विषयों की समष्टि ... जब माया स्थूल रूप में अर्थात् दृश्यमान विषयों में अभिव्यक्त होती है तब आधार ब्रह्म वैश्वानर या विराट कहलाता है ...
...परब्रह्म परमात्मा को प्राप्त होने के लिए सत्य का अनुशरण और जीव मात्र के प्रति प्रेम की ज्योति प्राणों में जल जाना आवश्यक है ....
.... ॐ परब्रह्म परमात्मने नमः,उत्पत्ति ,स्थिति ,प्रलाय्कारय, ब्रह्महरिहराय, त्रिगुन्त्माने सर्वकौतुकानी दर्शन-दर्शय दत्तात्रेयाय नमः ...

Friday, July 8, 2011

ढूँढे रे बन्दे

मोको कहां ढूँढे रे बन्दे
मैं तो तेरे पास में,
ना तीरथ मे ना मूरत में, ना एकान्त निवास में,
ना मंदिर में ना मस्जिद में,ना काबे कैलास में..
मैं तो तेरे पास में बन्दे मैं तो तेरे पास में....
ना मैं जप में ना मैं तप में,ना मैं बरत उपास में,
ना मैं किरिया करम में रहता,नहिं जोग सन्यास में,
नहिं प्राण में नहिं पिंड में,ना ब्रह्याण्ड आकाश में
ना मैं प्रकुति प्रवार गुफा में,नहिं स्वांसों की स्वांस में,
खोजि होए तुरत मिल जाउं ,इक पल की तालास में...
कहत कबीर सुनो भई साधो, मैं तो हूं विश्वास में ~~

"बापू मेरा सत्य गुरु"


किसी भी परिस्थिति में दूसरों को यह मौक़ा न दें कि वह आपको इतना क्रोधित कर सके कि आप कुछ ऐसा कर बैठें कि बाद में पश्चाताप करना पड़े। बहुत से लोग जो क्रोध में अपना नियंत्रण खो बैठते है वे बाद में पछताते हैं कि उन्होंने क्या कर दिया| जो व्यक्ति अपने संवेगों पर नियंत्रण नहीं रख पाते, वे स्वयं के सबसे बड़े शत्रु हैं| जब आपको कोई पागल (क्रोधित) कर देता है इसका अर्थ यह है कि आपके अंदर की कोई ईच्छा अवरोधित हो रही है, अन्यथा कोई भी आपको क्रोधित नहीं कर सकता|

Thursday, July 7, 2011

माँ-बाप का आदर क्यों करना चहिये ????


स्वामी विवेकानंद बेठे थे ...



एक लड़का आया....बोला माँ-बाप का आदर क्यों करना चहिये ????

स्वामी विवेकानंद बोले एक डेड किलो का पत्थर लेके आ ....



वो लड़का पत्थर लेके आया.......

स्वामी विवेकानंद जी ने वो पत्थर उस लड़के के पेट पे बाँध दिया ...और कहा १० घंटे बाद आना

मैं तुम्हारे प्रशन का जवाब दूंगा .....



अब वो लड़का १ घंटा भी नही रुक पाया ....परेशान परेशान हो गया...

वो लड़का वापिस स्वामी जी के पास आया और बोला मुझसे नही राह जाता ये पत्थर खोलो मुझे तकलीफ हो रही है ...

स्वामी जी ने खुलवा दिया पत्थर....



फिर लड़का बोला मेरे सवाल का जवाब दो.....

तब स्वामी जी बोले ...यही तो जवाब था....

जब तू १ घंटा भी डेड किलो के पत्थर को नही सँभाल सकता तो सोच माँ ने केसे तुझे ९ महीने पेट में रखा होगा ...

तुम तो १ घंटा भी पत्थर नही रख सके ...

सोचो उसका क्या हाल हुआ होगा .....

जिस माँ ने तुम्हे ९ महीने इतनी तकलीफ से संभाला ....

उस माँ का आदर नही करोगे तो क्या किसी हिरोइन का आदर करोगे ...
http://www.youtube.com/watch?v=nTQmzzeNhJY